गोरखपुर, जेएनएन। ओवरलोड ट्रकों से वसूली करने वाले गिरोह से जुड़े अधिकारियों, सिपाहियों और दलालों के गिरफ्तारी की तैयारी शुरू हो गई है। शुक्रवार को एसएसपी ने एसआइटी प्रभारी व एसटीएफ इंस्पेक्टर के साथ पुलिस कार्यालय में बैठक की। इसमें तीन सप्ताह से चल रही जांच में मिले साक्ष्य पर चर्चा हुई। एसआइटी कई आरोपितों की निगरानी कर रही है।

एसएसपी डॉ. सुनील गुप्ता दोपहर बाद तीन बजे एसआइटी प्रभारी/सीओ कैंट सुमित शुक्ला और एसटीएफ इंस्पेक्टर सत्यप्रकाश सिंह को पुलिस कार्यालय तलब किया। ओवरलोड ट्रकों से वसूली मामले में अब तक हुई कार्रवाई, जांच में मिले साक्ष्य की जानकारी ली। आरोपितों पर शिकंजा कसने का निर्देश देते हुए उनकी गिरफ्तारी करने का निर्देश दिया। बैठक करीब एक घंटे तक चली।

एसटीएफ इंस्पेक्टर ने दिए साक्ष्य 

ओवरलोड ट्रकों से वसूली करने वाले गैंग में शामिल आरटीओ विभाग के अधिकारियों, सिपाहियों व दलालों के खिलाफ एसटीएफ को कई और साक्ष्य मिले हैं। गैंग का पर्दाफाश करने वाले इंस्पेक्टर सत्यप्रकाश ने शुक्रवार को यह साक्ष्य एसआइटी प्रभारी को सौंपा।

कोर्ट से मिले अभिलेख की कराई गई फोटो कॉपी

24 जनवरी को गैंग सरगना मधुबन होटल के मालिक समेत छह लोगों का गिरफ्तार कर एसटीएफ ने उनके कब्जे से भारी मात्रा में दस्तावेज बरामद किए थे, जिसे सील कर अभियुक्तों के साथ कोर्ट में पेश किया। एसआइटी प्रभारी ने कोर्ट से अनुमति लेकर अवलोकन के लिए दस्तावेज अपने कब्जे में लिया था, जिसकी फोटो कॉपी कराई गई है।

गैंग से जुड़े लोगों पर होगी कार्रवाई

इस संबंध में एसएसपी डा. सुनील गुप्‍त का कहना है कि ओवरलोड ट्रकों से वसूली करने वाले गैंग से जुड़े लोगों पर कार्रवाई होगी। एसआइटी सभी पहलुओं की जांच कर रही है। एसटीएफ की भी मदद ली जा रही है। 

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस