गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर के रास्ते छपरा से हरिद्वार के बीच चलने वाली कुंभ मेला स्पेशल के संचालन में उत्तर रेलवे का पेच फंस गया है। पूर्वोत्तरी रेलवे प्रशासन तो अपने रूट पर ट्रेनों को चलाने की योजना तैयार कर ली है। लेकिन उत्तर रेलवे स्टेशन और ट्रैक खाली नहीं होने का अड़ंगा लगाए हुए है। उसका कहना है कि हरिद्वार और आसपास वाले स्टेशन यार्ड तथा रेल लाइनें पहले से ही भरी हुई है। गैप (खाली स्थल) खोजा जा रहा है। गैप मिलने के बाद ही नई स्पेशल ट्रेनों को चलाने की अनुमति प्रदान की जाएगी। ऐसे में  रेलवे बोर्ड की हरी झंडी के बाद भी रूट और समय  सारिणी का निर्धारण नहीं हो पा रहा।

गोरखपुर के रास्ते छपरा से हरिद्वार के बीच ट्रेन चलाने का निर्णय

जानकारों के अनुसार हरिद्वार कुंभ में डुबकी लगाने की इच्छा रखने वाले पूर्वांचल और बिहार के श्रद्धालुओं के लिए पूर्वोत्तर रेलवे के प्रस्ताव पर बोर्ड ने गोरखपुर के रास्ते छपरा से हरिद्वार के बीच छह जोड़ी कुंभ स्पेशल ट्रेन चलाने की अनुमति दे दी है। इन स्पेशल ट्रेनों में अभी सिर्फ आरक्षित कोच लगाने की ही योजना है। कंफर्म टिकटों पर ही यात्रा की अनुमति होगी। कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन अनिवार्य होगा। यहां जान लें कि बिहार और पूर्वांचल से हजारों की संख्या में श्रद्धालु कुंभ स्नान करने जाते हैं। सभी श्रद्धालुओं की निगाहें इन स्पेशल ट्रेनों के संचालन पर टिकी हुई हैं।

मुख्य कुंभ स्नान पर्व पर ही चलेंगी स्पेशल ट्रेनें

मुख्य कुंभ स्नान पर्व पर ही स्पेशल ट्रेनें चलाई जाएंगी। माघ पूर्णिमा स्नान पर चलने वाली स्पेशल ट्रेन 25 और 26 फरवरी को छपरा से रवाना होगी। 27 और 28 फरवरी को हरिद्वार से वापसी होगी। महाशिवरात्रि स्नान पर चलने वाली स्पेशल ट्रेन छपरा से 9 और 10 मार्च को रवाना होगी। 11 और 12 मार्च को हरिद्वार से वापसी होगी। सोमवती अमावस्या स्नान के लिए चलने वाली स्पेशल ट्रेन 10 और 11 अप्रैल को छपरा से रवाना होगी। 12 और 13 अप्रैल को हरिद्वार से वापसी होगी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप