गोरखपुर, जेएनएन। आम यात्रियों के लिए सहूलियत भरी खबर है। अब उन्हें यात्रा के दौरान खानपान स्टालों पर भी छुट्टा पैसा नहीं देना पड़ेगा। एटीएम कार्ड से ही भुगतान हो जाएगा। रेल मंत्रालय ने भारतीय रेलवे के समस्त खानपान यूनिटों (स्टालों) पर प्वाइंट आफ सेल सिस्टम (पीओएस मशीन) अनिवार्य कर दिया है। साथ ही हर हाल में यथाशीघ्र मशीन लगाने के लिए दिशा-निर्देश भी जारी कर दिया है।

कैटरिंग यूनिटों पर पीओएस मशीन अनिवार्य

रेलवे के आरक्षित काउंटरों पर पहले से ही पीओएस मशीनें लगी हुई हैं। अधिकतर लोग एटीएम कार्ड से ही  किराए का भी भुगतान करते हैं। इससे जेब में पैसा लेकर चलने की जरूरत नहीं पड़ती है। काउंटरों पर फुटकर को लेकर किचकिच भी समाप्त हो गई है। पाकेटमारी आदि की घटनाएं भी लगभग बंद हो गई हैं। लेकिन रेलवे खानपान में अभी आनलाइन भुगतान की कोई सुनिश्चित व्यवस्था नहीं थी। स्टेशनों पर और ट्रेनों में वेंडरों की मनमानी जारी है। वेंडर मनमाना दाम वसूलते हैं। इधर, शिकायत भी बढ़ गई है। ऐसे में मंत्रालय ने खानपान व्यवस्था को भी पारदर्शी बनाने के लिए सभी कैटरिंग यूनिटों पर पीओएस मशीन अनिवार्य कर दिया है।

बिल नहीं तो पेमेंट भी नहीं

रेल मंत्रालय ने नो बिल, नो पेमेंट योजना की अनिवार्यता पर भी जोर दिया है। भारतीय रेलवे के सभी जोनल कार्यालयों को निर्देशित किया है कि वे हर हाल में इस योजना को लागू करें। दरअसल, आम यात्रियों की सहूलियत के लिए रेल मंत्रालय ने नो बिल, नो पेमेंट की योजना शुरू की है। यानी, बिल नहीं तो पेमेंट भी नहीं। वेंडरों को खानपान की सामग्री का बिल देना अनिवार्य है। चाहें वह स्टेशन हो या ट्रेन। अगर कोई वेंडर बिल नहीं देता है तो यात्री पेमेंट नहीं करेंगे। शिकायत पर तत्काल कार्रवाई भी सुनिश्चित की जाएगी।

रनिंग स्टाफ को मिलेगा 50 हजार का बकाया एरियर

पूर्वोत्तर रेलवे के हजारों रनिंग स्टाफ (लोको पायलट और गार्ड आदि) के लिए राहत भरी खबर है। एनई रेलवे मजदूर यूनियन (नरमू) की पहल पर रेलवे प्रशासन ने रनिंग एलाउंस का बकाया एरियर भुगतान करने का निर्णय लिया है। प्रथम चरण में प्रत्येक रेलकर्मी को बकाया एरियर का 50-50 हजार रुपये प्रदान किया जाएगा। शेष बकाया धनराशि का भुगतान दूसरे चरण में होगा।

महाप्रबंधक से मिला प्रतिनिधिमंडल

बकाया एरियर भुगतान को लेकर महामंत्री केएल गुप्त के नेतृत्व में नरमू का एक प्रतिनिधिमंडल महाप्रबंधक राजीव अग्रवाल से मिला। प्रतिनिधि मंडल की बातों को सुनने के बाद महाप्रबंधक ने बकाया भुगतान के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिया। इस मौके पर इंद्रेश कुमार, एमके महराज, एमके गुप्ता, आशुतोष श्रीवास्तव, एमजे अंसारी और नवीन कुमार मिश्र आदि पदाधिकारी मौजूद थे। दरअसल, जनवरी 2017 से ही रनिंग स्टाफ के रनिंग एलांउस का एरियर भुगतान नहीं हो रहा है। बोर्ड के निर्देश के बाद भी बजट के अभाव में कर्मचारियों के लाखों का भुगतान लंबित पड़ा है। फिलहाल, रेलवे प्रशासन भुगतान के लिए बोर्ड से और बजट मांगने का प्रस्ताव बना रहा है। 

Posted By: Satish Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप