गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गौरीबाजार विकासखंड के सभागार में आयोजित गरीब कल्याण मेले में एक दिन पहले शनिवार को जिला ग्राम्य विकास अभिकरण (डीआरडीए) के परियोजना निदेशक (पीडी) व प्रभारी बीडीओ संजय पांडेय की पिटाई मामले में नया मोड़ आ गया है। गौरी बाजार की ब्‍लाक प्रमुख अनिता निषाद की तहरीर पर पीडी और ब्‍लाक के कर्मचारियों पर डकैती व हत्‍या के प्रयास का मुकदमा हो गया है।

राज्‍यमंत्री के पुत्र सहित 11 नामजद व 25 अज्ञात पर पहले से दर्ज है मुकदमा

एक तरफ पीडी की तहरीर पर राज्यमंत्री जयप्रकाश निषाद के पुत्र विश्वविजय निषाद समेत 11 नामजद व 25 अज्ञात पर हत्या के प्रयास व डकैती का मुकदमा दर्ज हुआ है तो दूसरी तरफ राज्यमंत्री की बहू ब्लाक प्रमुख अनिता निषाद की तहरीर पर पीडी व कर्मचारियों पर हत्या के प्रयास, डकैती व अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है।

राज्यमंत्री के पुत्र की नहीं हो रही गिरफ्तार, लामबंद हुए कर्मचारी

घटना के विरोध में कर्मचारी संगठन लामबंद हो गए हैं। राज्य मंत्री जयप्रकाश निषाद के पुत्र विश्वविजय निषाद व उनके समर्थकों की गिरफ्तारी की मांग की है। इसको लेकर विकास भवन सभागार में अधिकारियों व कर्मचारियों के संगठनों की 25 सितंबर की देर रात बैठक हुई, जिसमें घटना की निंदा करते हुए आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग की गई।

कर्मचारियोंन ने दी आंदोलन की चेतवानी

साथ ही गिरफ्तारी न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी गई। बैठक में उप्र पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष शौकत अली, ग्राम पंचायत अधिकारी संघ के मदनमोहन पाठक, ग्राम विकास अधिकारी संघ देवकांत पाठक, उप्र मिनिस्ट्रीयल कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष अजय सिंह, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष रामायण राय आदि मौजूद रहे।

यह है घटना

पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर ब्लाक सभागार में गरीब कल्याण मेला व संगोष्ठी का आयोजन किया गया था।गौरीबाजार की ब्लाक प्रमुख अनिता निषाद के पति व राज्यमंत्री जयप्रकाश निषाद के पुत्र विश्वविजय निषाद ने बैनर पर ब्लाक प्रमुख का फोटो नहीं होने पर आपत्ति जताई। इसे लेकर पीडी से उनकी कहासुनी हो गई। कहासुनी के बाद विश्वविजय सभागार से बाहर चले गए। करीब 20 मिनट बाद समर्थकों के साथ संगोष्ठी में पहुंचे और फिर कहासुनी होने लगी। इसी बीच परियोजना निदेशक /प्रभारी बीडीओ पर कुर्सियों से हमला कर दिया गया। इससे सभागार में भगदड़ मच गई।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi