गोरखपुर, जेएनएन। CBSE Board Exam 2021: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने बोर्ड परीक्षा को लेकर सख्त रुख अख्तियार किया है। बोर्ड ने स्कूलों को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि उन्हें प्रैक्टिकल के दिन ही विद्यार्थियों के नंबर अपलोड करने होंगे। ऐसा नहीं करने वाले स्कूलों को 50 हजार रुपये तक जुर्माना अदा करना पड़ सकता है। प्रायोगिक परीक्षा का आंतरिक मूल्यांकन कराकर हर हाल में नंबर स्कूलों को 23 दिसंबर के पूर्व वेबसाइट पर अपलोड कर देना है। बोर्ड की इस सख्ती से स्कूलों की परेशानी बढ़ गई है।

बोर्ड ने सर्कुलर जारी कर स्कूलों को चेताया

सीबीएसई प्रधानाचार्यों को निर्देश देकर यह साफ किया है कि परीक्षा के लिए उन्हें आनलाइन ही ओएमआर शीट उपलब्ध कराई जाएगी। ओएमआर शीट परीक्षा शुरू होने से पहले ही बोर्ड की तरफ से आनलाइन भेज दी जाएंगी, ताकि समय रहते ही विद्यार्थियों के लिए इन शीट्स को डाउनलोड करके प्रिंट निकलवाए जा सकें। विद्यार्थियों को रफ काम के लिए भी अतिरिक्त शीट दी जाएगी।

पांच सौ परीक्षार्थी पर एक प्रेक्षक की होगी नियुक्ति

परीक्षा को नकलविहीन व शुचितापूर्ण कराने को लेकर बोर्ड गंभीर है। बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि इस बार परीक्षा में 500 सौ विद्यार्थियों पर एक और 500 सौ अधिक पर दाे प्रेक्षक की नियुक्ति की जाएगी। बाेर्ड ने प्रेक्षकों की नियुक्ति की जिम्मेदारी जिला समन्वयकों को सौंपी है। यही परीक्षा केंद्रों पर प्रेक्षकों की नियुक्ति कर उनकी ड्यूटी लगाएंंगे।

पेन से भरने हाेंगे ओएमआर शीट

पहले चरण की बोर्ड परीक्षा के हर प्रश्‍न पत्र में 90 मिनट की अवधि के साथ अधिकतम 60 प्रश्न होंगे। जिनका जवाब छात्रों को ओएमआर शीट पर केवल पेन से भरना होगा। बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि इससमें पेंसिल के इस्तेमाल को नियमों के खिलाफ माना जाएगा।

बोर्ड द्वारा परीक्षा को जारी दिशा-निर्देशों की जानकारी सभी स्कूलों को दे दी गई है। नियमों का पालन नहीं करने वाले स्कूल पर बोर्ड कार्रवाई कर सकता है। - अजीत दीक्षित, जिला समन्वयक, सीबीएसई।

Edited By: Pradeep Srivastava