गोरखपुर, जेएनएन। शहर को स्मार्ट और सेफ बनाने की दिशा में नगर निगम तेजी से काम कर रहा है। शहर की यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए यातायात विभाग के साथ मिलकर नगर निगम महत्वपूर्ण चौराहों को इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (आइटीएमएस) से जोड़ रहा है। चौराहों पर जल रही लालबत्‍ती का उल्‍लंघन करने वाला और उसके वाहन को पुलिस एक जगह बैठ कर देख सकती है और वहीं से चेतावनी देनी शुरू कर देगी। जरूरी हुआ तो वहीं से ई-चालान भी कट जाएगा। पहले नौ चौराहों पर काम शुरू करने के बाद अब नगर निगम ने 11 नए चौराहों पर आइटीएमएस से जोडऩे का प्रस्ताव तैयार किया है। ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने की स्थिति यातायात विभाग के सिपाही कमांड कार्यालय में बैठकर चौराहों पर लगे स्पीकर से चेतावनी भी दे सकेंगे।

यातायात नियंत्रित करना होगा आसान

आइटीएमएस से यातायात को नियंत्रित करना और आसान हो जाएगा। इसके साथ ही पब्लिक एड्रेस सिस्टम (पीएएस) के तौर पर भी इसका प्रयोग किया जा सकेगा। यह सिस्टम पुलिसिंग में भी काफी मददगार होगा।

कमांड कार्यालय से चौराहों पर दी जाएगी चेतावनी

महानगर में वाहनों की बढ़ती संख्या से चौराहों पर यातायात का दबाव बढ़ रहा है। जाम से लोग परेशान रहते हैं। यातायात पुलिस को भी जूझना पड़ता है। आइटीएमएस ट्रैफिक पुलिस के काम को भी काफी आसान बना देगा। कमांड कार्यालय में बैठक कर ही कैमरों की मदद से नियम का उल्लंघन करने वालों का ई-चालान काटा जा सकेगा। महानगर के 20 चौराहों के कैमरों की जद में आ जाने से पब्लिक एड्रेस सिस्टम के जरिये लोगों को चेतावनी भी दी जा सकेगी।

इन चौराहों को शामिल करने का प्रस्ताव

इस सिस्‍टम में असुरन चौराहा, लाल बहादुर शास्त्री चौक, छात्रसंघ चौराहा, बरगदवा चौराहा, आम्बेडकर चौराहा, यातायात तिराहा, विश्वविद्यालय चौक, पादरी बाजार चौक, कूड़ाघाट तिराहा, अग्रसेन तिराहा और खजांची चौक को शामिल किया गया है।

पहले से चयनित हैं ये चौराहे

आइटीएमएस में पहले से ही गणेश चौराहा, ट्रांसपोर्टनगर चौराहा, कचहरी चौराहा, मोहद्दीपुर चौराहा, बेतियाहाता चौराहा, रुस्तमपुर चौराहा, गोलघर काली मंदिर, नौसड़ चौराहा और पैड़लेगंज चौराहा शामिल हैं। 

Posted By: Satish Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप