महराजगंज, जेएनएन। नेपाल को चाइना की यारी काम नहीं आई। संकट के समय भारत ही नेपाल के काम आया। काेराेना संक्रमण के इस दौर में भारत सरकार ने नेपाल की तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है। नेपाल को भारत ने दवाओं की दूसरी खेप भेजी है। यह दवाएं कोरोना महामारी में नेपाली जनता के लिए मददगार साबित होंगी। भारत के राजदूत विनय मोहन क्वात्रा ने मंगलवार को नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ज्ञावाली से काठमांडू में मुलाकात कर उन्‍हें दवाएं सौंपी। भारतीय दूतावास के अनुसार कोविड -19 से उत्पन्न चुनौती से निपटने के लिए भारत नेपाल की मदद कर रहा है। भारत सरकार का यह कदम नेपाल के आम लोगों के लिए संजीवनी साबित होगा। 

इससे पूर्व भी नेपाल भेजे गए हैं वेंटिलेटर व दवाएं 

भारत ने इससे पहले वेंटिलेटर व दवाएं सोनाैली सीमा के रास्‍ते नेपाल भेजा था। राजदूत विनय मोहन क्‍वात्रा ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि इस दवाओं का उपयोग गंभीर बीमारियों से पीड़ित रोगियों के काम आएगा। काेरोना से संक्रमित लोगों के लिए भी इन दवाओं का उपयोग होगा।

बार्डर पर फंसे प्‍याज लदे ट्रक

उधर, भारत में प्‍याज के मूल्‍य बढ़ने के बाद भारत सरकार द्वारा नेपाल में प्याज निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके बाद प्याज लदे ट्रक बार्डर पर फंस गए हैं। व्यापारी अकील अहमद, यीशु, पुनीत, जियावन व शानू खान का कहना है कि सरकार को प्याज निर्यात पर रोक लगाने से पूर्व व्यापारियों को सूचना दे देनी चाहिए थी। जिससे वह प्याज के नेपाल निर्यात का आर्डर नहीं आरक्षित कराए होते। करीब 200 ट्रक प्याज नेपाल भेजे जाने आर्डर को निर्यात पर अचानक लगे रोक से काफी नुकसान हुआ है। 

व्‍यापारियों ने मांगी रियायत

व्‍यापारियों का कहना है कि बार्डर तक पहुंचे प्याज लदे ट्रक को नेपाल जाने की रियायत दे दी जाए तो व्यपारियों का नुकसान कम होगा। सोनौली के कस्टम उपायुक्त शशांक यादव ने बताया कि आदेश आने के बाद सोनौली सीमा पर प्याज लदे ट्रकों की एंट्री पर रोक लगा दी गई है। सभी ट्रकों को सीमा से वापस भेजा जा रहा है। 

अब 16 अक्टूबर तक सील रहेगी भारत-नेपाल सीमा

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए नेपाल सरकार ने भारत-नेपाल सीमा सील रहने की अवधि 16 अक्टूबर तक बढ़ा दी है। बीते मार्च माह से भारत-नेपाल की सीमा सील है। केवल मालवाहक वाहनों और नेपाली नागरिकों को नेपाल में प्रवेश की अनुमति मिल रही है। नेपाल सरकार ने कुछ शर्तों के साथ नेपाल के महानगरों में लॉकडाउन में ढील दिया है। बीते दिनों नेपाल सरकार ने 17 सितंबर से नेपाल सीमा खोलने के संकेत दिए थे। जिसका सीमावर्ती क्षेत्र के लोग बेसब्री से इंतजार कर रहे थे, लेकिन फिर एक माह की अवधि बढ़ने से उनको मायूसी हाथ लगी है। नेपाल विदेश मंत्री प्रदीप ज्ञावली ने बताया कि नेपाल सरकार ने 16 अक्टूबर की रात 12 बजे तक भारत से लगी नेपाल की सीमा सील करने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान लोगों का आवागमन पूरी तरफ बंद रहेगा,पूर्व की भांति मालवाहक वाहनों के आवागमन की अनुमति रहेगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस