गाेरखपुर, जागरण संवाददाता : बारिश का मौसम खत्म होने के कगार पर पहुंचते ही नगर निगम प्रशासन ने विकास कार्यों की गाड़ी तेजी से दौड़ानी शुरू कर दी है। शहर में विकास कार्यों पर नगर निगम प्रशासन 54 करोड़ 52 लाख रुपये खर्च करने जा रहा है। पहले से स्वीकृत कार्यों की लागत जोड़ लें तो विकास कार्यों का बजट एक अरब को पार कर 1.17 अरब पहुंच गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा के अनुरूप शहर को साफ-सुथरा रखने के साथ नगर निगम प्रशासन का सबसे ज्यादा ध्यान सड़क और पथ प्रकाश पर केंद्रित होगा।

अत्याधुनिक ट्रांसफर स्टेशन बनाने का निर्णय लिया है नगर निगम प्रशासन ने

लखनऊ, कानपुर समेत बड़े शहरों की सफाई व्यवस्था को टक्कर देने के लिए नगर निगम प्रशासन ने अत्याधुनिक ट्रांसफर स्टेशन बनाने का निर्णय लिया है। पांच जोन में इन ट्रांसफार्मर स्टेशन को बनाने पर 10 करोड़ रुपये खर्च होंगे। ट्रांसफर स्टेशन में पूरे जोन का कूड़ा इकट्ठा होगा। यहां कूड़े को दबाकर रखा जाएगा और कई वाहनों का कूड़ा एक ही वाहन में रखकर एकला बांध पर ले जाया जाएगा। इससे नगर निगम प्रशासन हर साल डीजल पर लाखों रुपये का खर्च बचाएगा। 15वें वित्त आयोग से 98 कार्यों पर 15 करोड़ 67 लाख 74 हजार रुपये खर्च होंगे।

ईईएसएल की मनमानी नहीं चलेगी

शहर में स्ट्रीट लाइट लगाने का ठेका एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) को मिला है। पार्षद लगातार कंपनी की कार्यप्रणाली पर सवाल उठा रहे हैं। ज्यादातर वार्डों की प्रमुख सड़कों की ही लाइट नहीं जल रही है। इसे देखते हुए नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने शासन में अफसरों से बात कर पार्षदों को 20-25 लाइट लगाने के लिए बजट जारी कराया। इस पर 50 लाख रुपये खर्च होंगे। 70 चुने गए पार्षदों के साथ ही 10 मनोनीत पार्षदों को भी स्ट्रीट लाइट दी जाएगी। यह लाइट पार्षद आवश्यकता के अनुसार प्रमुख स्थानों पर लगवाएंगे।

10 करोड़ से शवदाह और पैच वर्क

नगर निगम प्रशासन पांच करोड़ रुपये से मृत पशुओं के निस्तारण के लिए शवदाह गृह बनाने जा रहा है। साथ ही सड़कों को गड्ढा मुक्त करने पर पांच करोड़ रुपये खर्च होंगे। 86 सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के लिए चिह्नित किया गया है।

महेवा में ही बन जाएंगे वाहन, नए भी आएंगे

नगर निगम में वाहनों की रिपेयरिंग में बड़ा खेल होता है। रिपेयरिंग में पहले तो खर्च बहुत आता है और इसमें देर भी होती है। इसे देखते हुए महेवा स्टोर में अत्याधुनिक सर्विस सेंटर व वर्कशाप बनाया जाएगा। इस पर पांच करोड़ रुपये खर्च होंगे। पांच करोड़ रुपये से लोडर, ट्रैक्टर ट्राली, जेसीबी व पोकलेन की खरीद होगी। इससे नगर निगम में वाहनों की संख्या की कमी दूर होगी।

8.34 करोड़ से पार्षद वरीयता के कार्य

नगर निगम पार्षद वरीयता के 116 कार्यों पर आठ करोड़ 34 लाख 29 हजार रुपये खर्च करेगा। इन कार्यों को पार्षदों की सहमति के आधार पर फाइनल किया गया है।

यह कार्य पहले से पास

निधि कार्य लागत

14वें व 15 वित्त आयोग से 111 23.14 करोड़

नगरीय अल्पविकसित व 43 22.92 करोड़

मलिन बस्ती विकास योजना (डूडा)

नगरीय अल्पविकसित व मलिन बस्ती 21 16.63 करोड़

विकास योजना (आरईडी)

यह कार्य होंगे

कार्य बजट

मृत पशुओं का शवदाह गृह 5 करोड़

महेवा स्टोर में सर्विस सेंटर व वर्कशाप 5 करोड़

लोडर, ट्रैक्टर, ट्राली, पोकलेन की खरीद 5 करोड़

पांच जोन में ट्रांसफर स्टेशन 10 करोड़

15वें वित्त आयोग से कार्य 15.67 करोड़

गड्ढा मुक्ति के लिए पैच वर्क 5 करोड़

नई स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए 50 लाख

कुल कार्य 191

विकास कार्य करने में जुट गया है नगर निगम प्रशासन

नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री के प्रेरणादायी नेतृत्व में नगर निगम प्रशासन विकास कार्य तेज करने में जुट गया है। शहर को साफ-सुथरा रखने के साथ ही सड़क और पथ प्रकाश व्यवस्था दुरुस्त करना हमारी प्राथमिकता है।

सभी को दिलाया जा रहा है विकास योजनाओं का लाभ

महापौर सीताराम जायसवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मार्गदर्शन से नगर निगम क्षेत्र में विकास कार्य कराए जा रहे हैं। सभी नागरिकों को विकास की योजनाओं का लाभ दिलाया जा रहा है। ट्रांसफर स्टेशन के साथ अन्य कार्य मील के पत्थर साबित होंगे।

Edited By: Rahul Srivastava