गोरखपुर, जेएनएन। गोला थाना क्षेत्र के बेलपार पाठक गांव निवासी व पुलिस विभाग में उपनिरीक्षक पद पर तैनात 52 वर्षीय सुधाकर पांडेय के कानपुर मुठभेड़ में घायल होने की सूचना से माता-पिता के होश उड़ गए। उनके भाई, पुत्र व पत्नी लगातार उनके संपर्क में बने हुए हैं। स्वजनों की माने तो उनकी हालत में लगातार सुधार हो रहा है।

सूचना मिलते ही बुजुर्ग माता-पिता की आंखों में आंसू आ गए

शुक्रवार को सुबह थाने से सूचना उनके गांव पहुंची कि वे कानपुर में बदमाशों से मुठभेड़ में घायल हो गए हैं। यह सूचना मिलते ही उनके 82 वर्षीय पिता रामनयन पांडेय व 76 वर्षीय माता शारदा देवी व अन्य सदस्यों के आंखों में आंसू आ गए। गोरखपुर जा रहे उनके भाई अमरनाथ पांडेय ने कानपुर से उनके बारे में जानकारी ली। कानपुर में मौके पर मौजूद घायल उपनिरीक्षक के पुत्र प्रवीण पांडेय व पत्नी पुष्पा देवी ने उनके हालत में सुधार की जानकारी दी। उसके बाद स्वजनों को राहत मिली। वे लोग लगातार कानपुर से संपर्क बनाए हुए हैं। स्‍वजनों को इस बात से राहत है कि उनकी हालत में निरंतर सुधार है।

डेढ़ वर्ष से हैं कानपुर के विभिन्‍न थानों में इंचार्ज

जानकारी के अनुसार सुधाकर पांडेय वर्ष 1985-86 में बरेली से उ. प्र. पुलिस में कांस्टेबल पद पर भर्ती हुए और पांच-छह साल पहले दारोगा के पदोन्नति के लिए हुई विभागीय परीक्षा पास करने के उपरांत उपनिरीक्षक पद पर तैनात हुए। सुधाकर पांडेय बीते डेढ़ वर्ष से कानपुर के विभिन्न थानों में तैनात हैं। इन दिनों चौबेपुर थाने में तैनाती है। वे लाकडाउन के पूर्व माता-पिता से मिलने एक दिन के लिए आए थे। उन्होंने लखनऊ में बांग्ला बाजार के करीब स्थित फांसी किला चौराहा के पास मकान बनवा लिया है। वहीं अपने परिवार के साथ रहते हैं। उनके एक पुत्र और एक पुत्री हैं। पुत्र प्रवीण व पुत्री पूजा की शादी हो चुकी है। गांव पर केवल उनके माता पिता व भाई का परिवार रहता है।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप