गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर के गुलरिहा क्षेत्र की रहने वाली किशोरी को गांव के ही युवक ने बहला-फुसलाकर अगवा कर लिया। इससे पहले शादी का झांसा देकर पांच साल तक उसका शारीरिक शोषण करता रहा। अपहरण करने के बाद दिखावे के लिए मंदिर में उससे शादी भी कर ली और बाद में हरियाणा ले जाकर दो लाख रुपये में एक महिला के हाथ उसे बेच दिया। किसी तरह से महिला के चंगुल से निकलकर किशोरी वन स्टाफ सेंटर पहुंची। सेंटर संचालक की मदद से गोरखपुर पहुंचने के बाद अगवा करने वाले युवक सहित चार के विरुद्ध सोमवार को उसने मुकदमा दर्ज कराया है।

भरोसा देने के लिए मंदिर में की शादी 

इस बाबत दी गई तहरीर में युवती ने लिखा है कि कि मोनू निषाद उर्फ महेंद्र ने शादी का झांसा देकर पांच साल तक उसके साथ शारीरिक संबंध बनाता रहा। 25 फरवरी 2021 वह शादी करने की बात करते हुए दो बजे रात में घर से भगा ले गया। बाद में दोनों के परिवार वालों ने सहमति से बरगदही शिव मंदिर में उनकी शादी करा दी। शादी के चार दिन बाद आरोपी उसे लेकर हरियाणा चला गया। वहां शकुंतला नाम की एक महिला के घर में वह किशोरी के साथ रहने लगा।

एक दिन किशोरी को शकुंतला के घर ही छोड़कर आरोपित वहां से चला गया। बाद में शंकुतला से मोनू के बारे में पूछने पर उसने बताया कि मोनू ने दो लाख रुपये में तुम्हें बेचा गया है। किसी तरह से वह मौका पाकर चरखी दादरी, हरियाणा स्थित सखी वन स्टॉप सेंटर पहुंची। वहां से अपने घर वालों से बात की। चार अप्रैल को किसी तरह से वह घर पहुंची। 

पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

युवती का आरोप है कि आरोपी उसे तरह-तरह की धमकियां दे रहे हैं। अब जातिसूचक गालियां देते हुए केस ना करने की धमकी दे रहे थे। पुलिस ने पीडि़ता की तहरीर पर केस दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी है। गुलरिहा इंस्पेक्टर विनोद कुमार अग्निहोत्री ने बताया कि तहरीर के आधार पर लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम और दुष्कर्म सहित कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप