गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर में इस बार कोरोना कर्फ्यू को लेकर पुलिस कुछ नरम है और लोग भी सड़कों पर बहुत कम निकल रहे है। लॉकडाउन वन की तरह इस बार कर्फ्यू को लेकर लोगों दहशत का माहौल नहीं है। लोगों को दवाएं, फल, सब्जियां और अन्‍य आवश्‍यक सामान मिल रहे हैं। कुछ इलाकों में भीड़ हो रही है प्रमुख बाजार बंद होने के कारण सड़कों पर अस्‍थाई रूप से ही कभी कभार भीड़ हो रही है।

बता दें कि गोरखपुर में मंगलवार सुबह तक लॉकडाउन खत्‍म हो रहा था लेकिन सरकार ने इस बीच गुरुवार तक के लिए लॉकडाउन को बढ़ा दिया लेकिन कालोनियों में छोटी दुकानों, फल व सब्‍जी के ठेलेवालों से लोगों को काफी राहत मिली और लोगों ने आवश्‍यक सामान मंगा लिए। दवा की दुकानें खुलने के कारण भी लोगों को काफी राहत मिल रही है। 

आवश्यक सेवाओं को रहेगी छूट, खुल सकेंगी दवा, दूध, सब्जी व किराना की दुकानें

कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए शासन ने 83 घंटों की पूर्व में घोषित साप्ताहिक बंदी को दो दिन के लिए और बढ़ा दिया है। अब गुरुवार की सुबह सात बजे तक प्रतिबंध लागू रहेंगे। हालांकि पहले की तरह की आवश्यक सेवाओं को छूट मिलेगी। दवा की थोक एवं फुटकर दुकानें खुल सकेंगी। दूध, सब्जी व किराना की दुकानों को भी खोलने की अनुमति होगी। सब्जी मंडी में कोविड 19 प्रोटोकाल का पालन करना होगा। सरकारी कार्यालयों में अधिकतम 50 फीसद कर्मचारी आ सकेंगे। प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के कर्मी आइ कार्ड दिखाकर आ-जा सकेंगे। टीकाकरण का काम चलता रहेगा। अखबार एवं रसोई गैस का वितरण हो सकेगा। अनावश्यक घूमने वालों पर सख्ती बरती जाएगी। बंदी के दौरान पूरे जिले में सैनिटाइजेशन का काम कराया जाएगा।

पूर्व में घोषित 83 घंटे की साप्ताहिक बंदी मंगलवार की सुबह सात बजे समाप्त हो रही थी लेकिन शासन की ओर से इसे बढ़ा दिए जाने के बाद सोमवार की शाम कई स्थानों पर सब्जी की दुकानें खुली रहीं। रीड साहब धर्मशाला पर सब्जी के ठेलों पर लोग सब्जी खरीदते नजर आए। इसके अलावा दिन में टीकाकरण के लिए भी लोग घरों से बाहर निकले। सामान्य दिनों की तुलना में सड़क पर सन्नाटा पसरा रहा। मतगणना से पुलिस कर्मियों के खाली हो जाने के बाद अगले कुछ दिनों में सख्ती बढ़ने की संभावना है। इस बार सरकारी बसें प्रदेश के बाहर नहीं जाएंगी लेकिन प्रदेश में संचलन जारी रहेगा। बसों में बैठे यात्रियों के बीच शारीरिक दूरी का पालन अनिवार्य होगा।

इन्हें मिलेगी छूट

बस या ट्रेन से आने वाले यात्रियों को गंतव्य तक जाने की छूट होगी।

सब्जी, किराना, दूध की दुकानें खुल सकेंगी। शारीरिक दूरी का पालन जरूरी होगा।

दवा की थोक एवं फुटकर दुकानें खुलेंगी।

होम डिलीवरी की व्यवस्था रहेगी।

आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों की आइडी ही पास होगा।

समाचार पत्र वितरक समाचार पत्र वितरित करने जा सकेंगे।

रसोई गैस की होम डिलीवरी हो सकेगी।

प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के कर्मी आइकार्ड के साथ आ-जा सकेंगे।

पेट्रोल पंप खुले रहेंगे।

आवश्यक वस्तुओं की आनलाइन होम डिलीवरी हो सकेगी।

कोविड प्रोटोकाल के साथ शादी समारोह आयोजित हो सकेंगे।

छह मई की सुबह सात बजे तक बंदी बढ़ाई गई है। इस दौरान आवश्यक सेवाओं को छोड़कर और किसी को बाहर निकलने की अनुमति नहीं होगी। किसी को भी दवा, खाद्य पदार्थों के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। बिना काम के घर से न निकलें। निकलें तो मास्क लगाकर ही निकलें। बंदी के दौरान पूरे जिले में सैनिटाइजेशन कराया जाएगा। - के. विजयेंद्र पाण्डियन, जिलाधिकारी।

अब कंटेनमेंट जोन नहीं, क्लस्टर जोन बनेंगे

कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए नगर निगम प्रशासन ने रणनीति में बदलाव किया है। अब कंटेनमेंट जोन की जगह कई गलियों को मिलाकर क्लस्टर जोन बनाए जाएंगे। इसकी शुरुआत भी हो गई है। क्लस्टर जोन में उन इलाकों को शामिल किया जाएगा जहां कोरोना संक्रमण के कई मामले मिले हैं। इन इलाकों को जाने वाले सभी रास्तों को बंद करा दिया जाएगा। सिर्फ एक रास्ते को खोला जाएगा। यहां पुलिसकर्मियों की तैनाती की जाएगी। इससे बिना वजह लोगों का क्लस्टर जोन में आना-जाना बंद होगा। कोरोना संक्रमितों के संपर्क में न आने से संक्रमण की दर थमेगी।

कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए नगर निगम ने बदली रणनीति

नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने बताया कि अभी जिन घरों में संक्रमित मिलते थे उन्हें कंटेनमेंट जोन बनाया जाता था। शहर में सक्रिय मामले बढ़े हैं तो रोकथाम का दायरा भी बढ़ाया जा रहा है। कंटेनमेंट जोन में रहने वाले संक्रमण मुक्त हो जाएंगे तो वहां से बैरीकेडिंग हटा दी जाएगी। जिन इलाकों को क्लस्टर बनाया जाएगा वहां सैनिटाइजेशन और सफाई के बेहतर इंतजाम कराए जाएंगे। नागरिकों को कोई असुविधा नहीं होने दी जाएगी। सभी रास्तों को बंद कर एक रास्ता खोला जाएगा। इस रास्ते पर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगेगी। व्यवस्था की जिम्मेदारी नगर निगम के अवर अभियंता और स्थानीय लेखपाल मिलकर देखेंगे। नगर आयुक्त ने बताया कि तिवारीपुर, कोतवाली और शाहपुर क्षेत्र में यह व्यवस्था लागू भी हो चुकी है। इधर, नगर निगम के मुख्य अभियंता सुरेश चंद्र ने कंटेनमेंट और क्लस्टर जोन का निरीक्षण कर व्यवस्था देखी।

एमएमएमयूटी सात तक बंद, 11 तक आनलाइन कक्षाएं भी स्थगित

कोरोना संक्रमण को देखते हुए मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय प्रशासन ने विश्वविद्यालय को सात मई तक के लिए बंद कर दिया है। आनलाइन कक्षाएं भी 11 मई तक स्थगित रहेंगी। इसकी भरपाई शिक्षक संक्रमण के बाद अतिरिक्त कक्षा लेकर करेंगे।

यह सभी निर्णय विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित आनलाइन समीक्षा बैठक में लिए गए। यह बैठक कोरोना संक्रमण की स्थिति पर समीक्षा के लिए बुलाई गई थी। बैठक में कुलपति प्रो. जेपी पांडेय ने बताया कि सरकार ने पांच मई तक लाकडाउन की अवधि बढ़ा दी है। ऐसे में पांच मई तक सरकार के आदेश के पालन में विश्वविद्यालय बंद रहेगा। छह व सात मई को कोरोना संक्रमण की बदतर स्थिति देखते हुए विश्वविद्यालय बंद करने का निर्णय लिया गया है। इस दौरान विश्वविद्यालय की समस्त आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। आवश्यक कार्य आनलाइन माध्यम से संपादित किए जाएंगे। बैठक में सभी अधिष्ठाता, उप कुलसचिव, परीक्षा नियंत्रक, वित्त नियंत्रक, संपर्क अधिकारी, चिकित्साधिकारी आदि मौजूद रहे।

होम आइसोलेशन में रहेंगे चुनाव ड्यूटी से लौटे कर्मचारी

बैठक में कुलपति ने उप कुलसचिव को निर्देश दिया कि वह पंचायत चुनाव में ड्यूटी करके लौटे कर्मचारियों को एक सप्ताह होम आइसोलेशन में रहना सुनिश्चित करें। इससे उनके संक्रमित होने की स्थिति में अन्य लोग संक्रमित होने से बचे रहेंगे।

होम आइसोलेशन वालों को भोजन उपलब्ध कराएगा किराना कमेटी

इनरव्हील क्लब आफ गोरखपुर के बाद अब गोरखपुर किराना कमेटी ने भी होम आइसोलेशन में रहने वालों को निश्शुल्क पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराने की पहल की है। इसके लिए कमेटी ने छह वाट्सएप नंबर जारी किए हैं, जिस पर सूचना देने पर सबंधित के घर सुबह- शाम भोजन पहुंच जाएगा। फिलहाल कमेटी ने यह सुविधा शहर के शेषपुर, बक्शीपुर, तरंग चौक, माया बाजार, घोष कंपनी, दिलेजाकपुर, दीवान बाजार, पुर्दिलपुर, सिविल लाइंस, मिर्जापुर, आर्यनगर, हुमायूंपुर तथा ईस्माइलपुर में शुरू की है।

इन नंबरों पर करना होगा वाट्सएप

9506960963, 9455584807

9415244430, 9415246049

94152 82140, 9794405067

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप