गोरखपुर, जेएनएन। कोरोना को लेकर प्रशासन ने प्रधानों की भी जिम्मेदारी तय कर दी है। अब प्रधान बाहर से आए लोगों पर नजर रखेंगे। 14 दिनों तक डाक्टर के साथ निगरानी करेंगे। साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ समन्वय बनाकर उनकी रिपोॢटंग भी करेंगे।

यह हुई व्‍यवस्‍था

कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए जहां लाक डाउन कर दिया गया है, वहीं जिला प्रशासन भी युद्ध स्तर पर जुट गया है। गांव स्तर पर जागरूकता लाने और बाहर से अपने वतन लौटे लोगों की पहचान कर इलाज कराने के लिए ग्राम प्रधानों को भी लगा दिया गया है। दिल्ली, मुम्बई, सिंगापुर, हैदराबाद, लुधियाना आदि से बड़ी संख्या में लोग अपने घर पहुंच रहें हैं। जागरूक व्यक्ति तो जिला अस्पताल में पहुंचकर अपने स्वास्थ्य का परीक्षण करा ले रहें हैं। लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी बहुत से लोग जांच कराने से कतारे रहे हैं। इन्हें जागरूक कर प्रधान इन्हें जांच कराने का सुझाव देंगे और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर इनका स्वास्थ्य परीक्षण कराएंगे। 

जागरूक करेंगे ग्राम प्रधान

महराजगंज के डीएम डा. उज्ज्वल कुमार ने बताया कि कोरोना के प्रति जागरूकता के लिए ग्राम स्तर पर प्रधानों की भूमिका अहम है। गांव में आने वाले बाहरी व्यक्ति पर नजर रखने और स्वास्थ्य विभाग को सूचित कर उनकी जांच कराने के लिए निर्देश दिया गया है।

बाहर से आए लोगों को घर में रहने की नोटिस

महराजगंज जिले के कोठीभार थाना क्षेत्र के दर्जनों गांवों में विदेश और अन्य प्रांतों से आये 94 लोगों का चिकित्सकों की एक टीम ने जांच किया और उन्हें 14 दिन तक घर में रहने की सलाह देते हुए उनके घर पर नोटिस भी चस्पा किया। बुधवार को प्राथमिक स्वास्थ केंद्र सिसवा के चिकित्सकों की टीम ने ग्राम सभा लोहेपार, पकड़ी चौबे, गेरमा, रुदलापुर, हरपुर पकड़ी, शितलापुर, सबया सहित अन्य कई गांवों के 94 लोगों के स्वास्थ की जांच कर उनकी रिपोर्ट देखी और उनको 14 दिनों तक घर में रहने की सलाह दी। डा. ईश्वर चन्द्र विद्यासागर, डा.पवन सिंह, डा. वैभव प्रबल, डा. शिवानन्द, डा. मनोज, आशुतोष सहित अन्य स्वास्थ्यकर्मी मौजूद रहे। सबया ढाला संवाददाता के अनुसार ठीभार थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्रामसभा भोतियाही व पकड़ी भारतखंड में सऊदी अरब व मुंबई से लौटे युवकों को सर्दी जुकाम होने पर ग्रामीणों ने कोरोना वायरस से पीडि़त होने की आशंका बताकर सूचना सीएचसी निचलौल को दी। सूचना पर पहुंची चिकित्सकीय टीम द्वारा बुधवार को पीडि़तोंं का चिकित्सकीय परीक्षण किया गया।

सब्जी मंडी मालिक पर दर्ज हुआ मुकदमा

लाकडाउन के बाद जिले में धारा 144 का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस की सख्ती बढ़ती जा रही है। महराजगंज में सब्जी मंडी मालिक के खिलाफ कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। सदर कोतवाल सर्वेश ङ्क्षसह ने तहरीर दी कि नगर पालिका निवासी सुरेश मोदनवाल शासन के निर्देशों का पालन नहीं करते हुए धारा 144 का उल्लंघन किया गया। जिसको लेकर कोरोना वायरस के फैलने की आशंका बढ़ गई। सब्जी मंडी में दुकान खुलने से वहां काफी भीड़ जुट गई। सूचना पर जब पुलिस पहुंची तो वहां अफरातफरी मची रही। पुलिस ने व्यापारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। मामले की विवचेना कलेक्ट्रेट चौकी प्रभारी कर रहे हैं। पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह सजवान ने कहा कि मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जाएगी। 

सीमाएं सील, सड़कों पर पुलिस की सख्ती

पुलिस प्रशासन लॉक डाउन का सख्ती से पालन कराया। जिले की सीमाओं को रात में सील कर दिया गया। जगह-जगह बैरिकेडिंग कर पुलिस की ड्यूटी लगा दी गई। जांच के लिए चौकी प्रभारी व दारोगाओं को मातहतों के साथ विभिन्न जगहों पर तैनात किया गया था। एसएचओ पूरे दिन क्षेत्र में भ्रमण करते रहे। इसके साथ ही वह कोरोना से बचाने के लिए लाकडाउन के दौरान घरों में रहने की अपील करते रहे। इमरजेंसी वाहनों को छोड़कर अन्य किसी भी वाहनों की इंट्री नहीं हो पाई। दोपहर बाद जिले की सभी सड़कें सुनी हो गईं । गोरखपुर-सोनौली नेशनल हाईवे हो या एनएच-730, सब का नजारा एक जैसा दिखा। गोरखपुर-महराजगंज रोड व महराजगंज-निचलौल पर कतरारी, श्यामदेउरवा, परतावल, भिटौली, नगर  तिराहा, सिंदुरिया आदि स्थानों पर बैरियर लगाकर चेकिंग की जा रही थी।

लाकडाउन में सख्ती के दौरान पुलिस वाले कई जगहों पर आम लोगों से उलझ गए। चेकिंग के नाम पर लोगों से परिचय पत्र, गाड़ी का कागज मांगा जाने लगे। यही सीन नेपाल बार्डर के सीमाओं पर देखा गया। कई जगहों पर पुलिस को लाठी पटकनी पड़ी। बात नहीं मानने पर मुकदमे की चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। कोतवाली की मोबाइल टीम पर चल रहे दारोगा ने कई बाइक सवारों को घंटों परेशान किया गया। स्थिति का जायजा लेने के लिए सुबह 10 बजे से डीएम डा.उज्ज्वल कुमार व एसपी रोहित ङ्क्षसह सजवान साथ में घूमते रहे। दोनों अधिकारी लाक डाउन का सख्ती से पालन करने में जुटे रहे। सीओ, थाना प्रभारी क्षेत्र में माइक से लाकडाउन की जानकारी देते रहे। यह सिलसिला देर रात से ही शुरू हो गया, ताकि समय रहते लोगों तक सूचनाएं पहुंच जाए। सुबह 10  बजे के बाद पुलिस ने मेडिकल स्टोर छोड़कर सभी दुकानों को बंद करवा दिया। जिला अस्पताल के बाहर मरीजों के साथ पहुंचे परिजन काफी डरे हुए थे। गोरखपुर-महराजगंज हाईवे पर पांच जगह बैरियर लगाए गए थे। कतरारी के पास जिले की सीमा को सील कर दिया गया था। नेपाल बार्डर की 84 किमी सीमा को पहले से सील की गई थी। फरेंदा में गोरखपुर रोड पर बैरियर लगा दिया गया। कुशीनगर व संतकबीरनगर से जुडऩे वाली सीमाओं पर पुलिस का पहरा कड़ा था। सरकारी गाड़ी, एंबुलेंस व अन्य वाहनों को जाने दिया गया। जगह-जगह पुलिस सतर्क रही।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस