गोरखपुर, जेएनएन। महराजगंज की पनियरा पुलिस ने कोरोना पॉजिटिव युवक, उसके भाई व बहनोई के खिलाफ लॉकडाउन ब्रेक करने और महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया है। पनियरा क्षेत्र के रतनपुरवा निवासी युवक भाई अशोक के साथ 26 अप्रैल को ट्रक में मास्क लादकर गोरखपुर आया था। वहां से उसका बहनोई गुलहरिया क्षेत्र के सरहरी निवासी रामअचल निषाद बाइक से उसे रतनपुरवा गांव ले गया, जबकि भाई ट्रक लेकर सिलीगुड़ी चला गया। गांव में युवक की तबीयत खराब होने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसे जिला अस्पताल में आइसोलेट कर नमूना जांच के लिए भेजा। 29 अप्रैल की रात आई रिपोर्ट में कोरोना संक्रमित मिला। पुलिस ने तीनों की लापरवाही पाए जाने पर  युवक, उसके भाई व बहनोई के खिलाफ एपेडेमिक एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

बस्ती में दो और कोरोना पॉजिटिव मिले, संख्या हुई 31

बस्ती जिले के हर्रैया में क्वारंटाइन दो और मजदूर कोरोना पॉजिटिव पाये गए हैं। दोनों रामनगर ब्लाक के खैरा गांव के रहने वाले हैं। इस तरह जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या 31 पहुंच गई है। शुक्रवार की देर रात पांच कोरोना पॉजिटिव मिले थे। यह सभी मजदूर मुंबई से 28 अप्रैल को लौटे थे। दोनों को लेवल वन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुंडेरवा के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करा दिया गया है।

गोरखपुर में रेड जोन की तरह रहेगी सख्ती

सोमवार से शुरू हो रहे तीसरे चरण के लॉकडाउन में भी जिले में कोई राहत नहीं मिलने वाली है। जिला भले ही ऑरेंज जोन में है, लेकिन सख्ती रेड जोन की तरह ही रहने वाली है। लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा को देखते हुए जिला प्रशासन सख्ती बनाए रखने की तैयारी में लगा है। जरूरी सामानों को लेकर जो व्यवस्था चल रही है, वह जारी रहेगी। स्थानीय जिला प्रशासन किसी प्रकार की नई छूट देने केपक्ष में नहीं है।

कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति का मोहल्ला सील

टीबी अस्पताल में क्वारंटाइन किए गए बिछिया क्षेत्र निवासी    कोरोना पॉजिटिव नेपाली नागरिक के मोहल्ले को सील कर दिया गया है। उसके अलावा चार अन्य परिवार को क्वारंटाइन कराया गया है।

11 बसों से पहुंचे 253 प्रवासी

देश के विभिन्न जिलों से शनिवार को भी प्रवासियों का आना जारी रहा। 11 बसों से कुल 253 लोग कसरवल पहुंचे। इनमें से 31 लोग गोरखपुर जिले की अलग-अलग तहसीलों से हैं। सभी की स्वास्थ्य जांच की गई है और उन्हें तहसीलों में बने क्वारंटाइन सेंटरों में भेज दिया गया। कसरवल में आने के बाद सभी की थर्मल स्कैनिंग कराई गई। सहजनवां लाकर उन्हें भोजन कराया गया। उसके बाद जानकारी दर्ज की गई। गोरखपुर के लोगों को उनके तहसीलों में भेजने के बाद देवरिया, कुशीनगर व महराजगंज जिले के प्रवासियों को उनके जिलों में रवाना कर दिया गया।

17 मई तक बंद रहेगी जेल, नहीं होगी मुलाकात

लॉकडाउन और बढऩे के बाद जेल प्रशासन ने बंदियों की मुलाकात भी 17 मई तक बंद कर दी है, लेकिन विशेष परिस्थितियों में उनकी वार्ता पीसीओ के जरिए परिजनों से कराई जा सकेगी। जेल प्रशासन ने पहले 31 मार्च तक बंदियों की मुलाकात बंद की थी। बाद में 14 अप्रैल और फिर तीन मई तक लॉकडाउन के दौरान बंदियों की मुलाकात पर रोक लगाई गई थी। अब 17 मई तक लॉकडाउन को बढ़ा दिया गया है, इसलिए जेल में बंदियों की मुलाकात को बंद कर दिया गया है, ताकि किसी तरह के संक्रमण का खतरा न रहे। वरिष्ठ जेल अधीक्षक डॉ. रामधनी ने बताया कि विशेष परिस्थितियों में लिखित अनुरोध करने पर बंदी और कैदी की वार्ता पीसीओ के जरिए परिजनों से कराई जाएगी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021