कुशीनगर : सड़क मार्ग पर बढ़ी चौकसी के बाद तस्कर अब नारायणी नदी होकर नाव के सहारे शराब की खेप बिहार पहुंचा रहे हैं। रात होते ही खड्डा, हनुमानगंज क्षेत्र में नदी किनारे घाट पर तस्करों का जमावड़ा शुरू हो जाता है। वहां से नाव पर शराब लोड कर बिहार के पूर्वी व पश्चिमी चंपारण में पहुंचाई जाती है। शराब तस्करी के इस खेल में कुछ वर्दीधारी भी शामिल हैं, यही कारण है कि इस धंधे पर पूरी तरह से रोक नहीं लग पा रही है।

बिहार में शराब पर पूरी तरह प्रतिबंध है, इसके चलते वहां इसकी तस्करी जोरों पर है। कुशीनगर के बार्डर इलाकों में स्थित सरकारी दुकानों के संचालक भी इस धंधे में शामिल हैं। खड्डा, हनुमानगंज, नेबुआ-नौरंगिया, जटहाबाजार थाना क्षेत्रों से शराब की खेप नारायणी नदी तक पहुंचाई जा रही है। वहां से नाव के सहारे यह शराब बिहार के पूर्वी व पश्चिमी चंपारण जिले में भेजी जाती है। ऐसे में इस धंधे में लगे लोगों को दोगुना से अधिक दाम मिल रहा है। हाल में ही खड्डा क्षेत्र में कुछ युवकों ने मैजिक से ले जाई जा रही शराब की खेप रोक दी और इसकी सूचना थाने दी। पुलिस ने इस मामले का संज्ञान ही नहीं लिया। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि रात होते ही शराब लदी गाड़ियां नदी के घाट के आस-पास पहुंचनी शुरू हो जाती हैं। एसपी सचिन्द्र पटेल ने कहा कि शराब तस्करी पर हर हाल में रोक लगाई जाएगी। पुलिस की संलिप्तता उजागर होने पर संबंधित के विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी।

गांव में बिक रही शराब, एसपी से शिकायत

जटहां बाजार थाना क्षेत्र के डुमरी गांव के सुबोध मिश्रा ने पुलिस अधीक्षक सचिन्द्र पटेल को शिकायती पत्र सौंपकर बताया है कि चौराहे पर उनकी दुकान है। बगल के टोले के लोग प्रतिदिन शराब पीकर चौराहे पर उत्पात करते हैं। मना करने पर जानमाल की धमकी देते हैं। गांव में अवैध ढंग से शराब बेची जा रही है।

Edited By: Jagran