गोरखपुर, जागरण संवाददाता : खोराबार उपकेंद्र से जुड़े रामगढ़ फीडर का तार ठीक करते समय लाइनमैन श्यामदेव ऊपर से गुजर रही 132 केवी (1.32 लाख वोल्ट) लाइन के करंट की चपेट में आ गया। लाइनमैन 11 हजार वोल्ट की लाइन पर शटडाउन लेकर काम कर रहा था। बारिश के बीच 1.32 लाख की लाइन का हवाई करंट लगने से वह झुलसकर पोल से नीचे गिर गया। उसके दोनों हाथ टूट गए हैं। नर्सिंग होम में उसे भर्ती कराया गया है।

फीडर में खराबी के कारण कई गांवों की आपूर्ति हो गई ठप

रामगढ़ फीडर की लाइन में खराबी आने के कारण लालपुर टीकर समेत कई गांवों की आपूर्ति ठप हो गई थी। उपकेंद्र पर सूचना मिली तो खोराबार थाना क्षेत्र के खोराबार निवासी लाइनमैन श्यामदेव को गड़बड़ी ठीक करने के लिए भेजा गया। सिक्टौर चौराहे पर 11 हजार वोल्ट की लाइन के पोल पर गड़बड़ी दिखी तो श्यामदेव ने शटडाउन लिया। करीब नौ बजे पोल पर चढ़कर तार ठीक कर रहे थे। इसके ऊपर से मोतीराम अड्डा पारेषण उपकेंद्र से 132 केवी की लाइन गुजरी है।

लाइन ठीक करने के दौरान हो रही थी हल्‍की बारिश

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि लाइन ठीक करने के दौरान हल्की बारिश हो रही थी। इसी बीच अचानक चिंगारी उठी और श्यामदेव के सिर में आग लग गई। श्यामदेव पोल से नीचे गिर गए। मौके पर मौजूद अवर अभियंता और अन्य कर्मचारी उन्हें लेकर खोराबार प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। यहां से डाक्टरों ने उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया। उपखंड अधिकारी जितेंद्र नाथ ने बताया कि हवाई करंट से हादसा हुआ। तत्काल बिजलीकर्मी को अस्पताल में भर्ती कराया गया। दूसरे उपकेंद्र से लाइनमैन का सहयोग लेकर तकरीबन डेढ़ घंटे बाद आपूर्ति बहाल करा दी गई।

सुरक्षा उपकरण के साथ नहीं चढ़े थे

बिजली निगम के अफसर कर्मचारियों को सुरक्षा उपकरणों के साथ ही पोल पर चढ़ने के निर्देश देते हैं। संविदा लाइनमैन पोल पर बिना सुरक्षा उपकरण के ही चढ़ा था। इतना ही नहीं हाईटेंशन लाइन पर काम शुरू करने के पहले तार की अर्थिंग जरूरी होती है, लेकिन ज्यादातर लाइनमैन सीधे पोल पर काम शुरू कर देते हैं।

Edited By: Rahul Srivastava