गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर जिले में 31277 शिक्षक भर्ती के तहत शिक्षामित्र से सहायक अध्यापक बने 86 शिक्षकों का ब्योरा नए सिरे से मानव संपदा पोर्टल पर अपलोड होगा। पोर्टल पर ब्योरा अपडेट करने की सुविधा मौजूद नहीं होने के कारण पहले शिक्षामित्रों के त्यागपत्र देना होगा। उसके बाद इनका ब्योरा पोर्टल हटाकर सहायक अध्यापक के रूप में अपडेट किया जाएगा। इसको लेकर बेसिक शिक्षा सचिव ने बीएसए को 20 नवंबर तक यह प्रक्रिया पूर्ण करने का निर्देश दिया है।

बीएसए का समस्त बीईओ को ब्योरा जल्द पोर्टल पर अपलोड करने का निर्देश

शिक्षामित्र से सहायक अध्यापक बने शिक्षकों का ब्योरा अपलोड होने में आ रही समस्या को देखते हुए बेसिक शिक्षा विभाग ने शिक्षकों को राहत दी है। इस प्रक्रिया के अंतर्गत त्यागपत्र देने वाले शिक्षकों को इसकी जानकारी पोर्टल पर अपलोड करने के साथ ही संबंधित विकासखंड के बीईओ से सत्यापित भी कराना होगा, जिसके बाद इन शिक्षकों को ईएचआरएमएस कोड आवंटित करते हुए मानव संपदा पोर्टल पर पुरानी प्रक्रिया के माध्यम से पंजीकरण कराना होगा।

नवनियुक्त शिक्षक के रूप में दोबारा मानव संपदा पोर्टल पर दर्ज होगा सर्विस रिकार्ड

बीएसए बीएन सिंह ने बताया कि शिक्षकों का शिक्षामित्र के रूप में पूर्व में ही पंजीकरण हुआ था, जिसके कारण शिक्षामित्र से सहायक अध्यापक बने शिक्षकों का ब्योरा पोर्टल पर अपलोड होने में समस्या आ रही थी। अब इनसे त्यागपत्र लेकर पूरी जानकारी पोर्टल पर अपलोड करते हुए पुरानी जानकारी हटाई जाएगी।

बच्चों का भविष्य संवारने का गुर सीख रहे नवनियुक्त शिक्षक

गोरखपुर जनपद के परिषदीय विद्यालयों में नवनियुक्त 517 शिक्षक बच्चों का भविष्य संवारने का गुर सीख रहे हैं। मंगलवार से डायट के प्रेमचंद सभागार में दस दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रारंभ हो गया पहले दिन सौ के सापेक्ष 98 शिक्षक प्रशिक्षण में शामिल हुए। एक शिक्षक को दो दिन तक प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बीएसए बीएन सिंह ने नवनियुक्त शिक्षकों को उनके उत्तरदायित्वों की जानकारी दी। डायट प्राचार्य ने डा.बीके सिंह प्रश्नोत्तर के माध्यम से शिक्षकों के अधिगम स्तर को जानने का प्रयास किया। कार्यक्रम संयोजक अमृत उपाध्याय ने मिशन प्रेरणा से शिक्षकों को अवगत कराया।

शिक्षकों को प्रशिक्षित करने की जिम्मेदारी दस चयनित विषय विशेषज्ञों को सौंपी गई हैं, जो पूरे प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान गणित, अंग्रेजी, मनोविज्ञान, सांख्यिकी समेत अन्य विषयों को पढ़ाने का तरीका लेक्चर के जरिये बताएंगे। साथ ही टाइम एंड मोशन, प्रेरणा मिशन, प्रेरणा का लक्ष्य, प्रेरणा तालिका, अधारशिला, ध्यानाकर्षण व शिक्षण संग्रह के बारे में भी जानकारी देंगे। प्रशिक्षण के दौरान डायट में कोरोना गाइड लाइन का पालन किया जा रहा है। इसके तहत एक हाल में 40-40 शिक्षकों को बैठने की व्यवस्था की गई है। 

प्रशिक्षण के लिए चयनित विशेषज्ञ

प्रशिक्षण देने के लिए दस विषय विशेषज्ञ चयनित किए गए हैं, जो शिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे। इन विशषज्ञों में प्रेमचंद्र, रजनीश गुप्ता, लक्ष्मण सिंह, अनुपमा राय, शिखा सिंह, दिनेश कुमार, वासुदेव, राकेश कुमार, आदित्य पांडेय तथा श्रीनिवास मिश्रा आदि शामिल हैं।

 

Edited By: Pradeep Srivastava