गोरखपुर, जेएनएन। मालगाडि़यों के जरिये नेपाल और सीमाई इलाकों में अब माल पहुंचाना अब और आसान होगा। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने माल ढुलाई की प्रक्रिया को और सुविधाजनक बनाते हुए नेपाल से सटे महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशन नौतनवां गुड्स शेड में कंटेनर रेल टर्मिनल खोलने का निर्णय लिया है। रेलवे की इस नई व्‍यवस्‍था से दोनो देशों के व्‍यापारियों को फायदा होगा। 

नौतनवां गुड्स शेड में खुलेगा कंटेनर रेल टर्मिनल

नई व्यवस्था के तहत मालगाड़ी पर लोड कंटेनर हाइड्रोलिक क्रेन से सीधे ट्रक पर पहुंच जाएंगे। प्राथमिक चरण में टर्मिनल की सुविधा 17 दिसंबर 2020 तक मिलेगी। अनलोडिंग में अपेक्षाकृत बहुत कम समय लगेगा। मैनपॉवर की आवश्यकता भी कम हो जाएगी। माल समय से अपने गंतव्य पर पहुंच जाएगा। व्यापारियों को कंटेनर रेक लेने की सुविधा भी उपलब्ध मिलेगी। महराजगंज व आसपास के इलाकों में खाद्यान्न सहित अन्य सामग्रियों की लोडिंग के लिए भी नौतनवां एक बेहतर विकल्प होगा । दरअससल, माल परिवहन की दृष्टि से नौतनवा गुड्स शेड रेलवे का महत्वपूर्ण सेंटर है। यहां प्रत्येक माह 15 रेक माल आता है जो सोनौली के रास्ते ट्रकों के जरिये नेपाल जाता है।

नौतनवां गुड्स शेड नेपाल सीमा से सटे होने के कारण बेहद महत्वपूर्ण है। यह सुविधा व्यापारिक गतिविधियों को बढ़ाने में मदद करेगी। व्यवसाय व उद्योग को बढ़ावा देने के लिए माल ढुलाई में रेलवे की तरफ से कई तरह की रियायतें भी दी जा रही हैं। - पंकज कुमार सिंह, सीपीआरओ, एनई रेलवे।

बाढ़ व भूस्खलन में पांच की मौत, 24 लापता

नेपाल के पहाड़ी जिलों में शनिवार शाम सात बजे बाढ़ और भूस्खलन में पांच लोगों की मौत हो गई और 24 लोग लापता हैं। इनकी तलाश के लिए नेपाल प्रहरी दल के जवानों को लगाया गया है। नेशनल इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर के प्रमुख मुरारी अवस्थी के मुताबिक शनिवार को बाढ़ और भूस्खलन से गियाग्दी, लामजुंग, कास्की, रुकुम वेस्ट, तनाहू, डोलखा और गुल्मी पहाड़ी जिले प्रभावित हुए हैं।

बढ़ रहा नदियों का जलस्तर, पुलिस चौकी में घुसा पानी

नेपाल व तराई क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश के कारण नदियों के जलस्तर में लगातार वृद्धि दर्ज की जा रही है। शनिवार को जिले में हुई 15 एमएम बारिश व नेपाल से आने वाले पानी से जिले की अधिकांशत: नदियों के जलस्तर में इजाफा देखने को मिला। अकेले नारायणी नदी में करीब 40 हजार क्यूसेक की वृद्धि दर्ज की गई। जिससे तटबंधों पर दबाव बढऩे लगा है। गंडक के अलावा चंदन, प्यास, महाव तथा राप्ती का जलस्तर भी खतरे के निशान के करीब पहुंच गया है। शनिवार की दोपहर अपर जिलाधिकारी, अपर पुलिस अधीक्षक, सीओ व एसडीएम फरेंदा अपने मातहतों के साथ विकास खंड बृजमनगंज में स्थित घोंघी नदी  के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का स्थलीय निरीक्षण कर हालात से रूबरू हुए। एडीएम  कुंज बिहारी अग्रवाल एवं अपर पुलिस अधीक्षक निवेश कटियार शनिवार राजपुर दौलतपुर बांध पर पहुंचे। बांध का बारीकी से स्थलीय निरीक्षण किया। उपजिलाधिकारी राजेश जायसवाल, क्षेत्राधिकारी अशोक कुमार मिश्र सहित राजस्व विभाग के लोग मौजूद रहे।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस