गोरखपुर, जेएनएन : कुशीनगर जिले में बड़ी गंडक नदी के वीरभार ठोकर नंबर चार पर अचानक जल स्तर में बढ़ोत्तरी से पीपा पुल का एप्रोच कट गया। इसकी वजह से पीपा पुल धंस गया। इससे आवागमन बाधित हो गया है। इससे रेता क्षेत्र के आधा दर्जन गांव मरिचहवां, हरिहरपुर, नरायनापुर, शाहपुर आदि गावों के करीब 20 हजार की आबादी की आवागमन प्रभावित हो गया है।

भाजपा नेता ने आवागमन बहाल करने की मांग की

भाजपा नेता आनन्द सिंह ने विधायक जटाशंकर त्रिपाठी व अधिशासी अभियंता से वार्ता कर आवागमन बहाल कराने की मांग की। आरोप है कि इसके पहले भी पिछले चार अप्रैल को जलस्तर में अचानक वृद्धि के कारण पीपा पुल धंस गया था, जिसकी वजह से एक हफ्ते तक आवागमन बाधित रहा। लोक निमार्ण विभाग के जेई जयचन्द शर्मा ने बताया कि जानकारी मिली है। जलस्तर की स्थिति पर नजर रखी जा रही है। शीघ्र ही मरम्मत कार्य शुरू कराया जाएगा।

रेलिंग विहीन पुलिया से दुर्घटना की आशंका

मंसूरगंज से बोदरवार जाने वाली सड़क पर बनी पुलिया का रेलिंग टूट जाने से दुर्घटना की आशंका बनी हुई है। क्षेत्र के लोगों ने पुलिया पर रेलिंग बनवाने की मांग की है। गांव गंगराई के समीप मंसूरगंज-बोदरवार मार्ग पर बनी पुलिया का रेलिंग करीब छह माह पूर्व गन्ना लदे ट्रैक्टर ट्राली से टक्कर के बाद टूट गया। तब से अब तक पुलिया की रेलिंग नहीं बन सकी। इससे इस रास्ते से आने-जाने वाले लोगों में दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। कई बार कहा जा चुका है पर इस ओर कोई सुधि नहीं ले रहा है।

रात में लोगों को होती है काफी परेशानी

दिन के समय तो राहगीर बच कर निकल जाते हैं, लेकिन रात के समय आने-जाने वालों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। एडवोकेट वेदप्रकाश दूबे, मनोज, पप्पू कुमार रमन, हरि प्रसाद चौधरी आदि ने रेलिंग विहीन पुलिया को दुरुस्त कराने की मांग की है।