गोरखपुर, जागरण संवाददाता : संतकबीर नगर जिले के बखिरा थाना क्षेत्र के पटवरिया निवासी 16 वर्षीय किशोरी ने छत की कुंड़ी से लटक कर जान दे दी। घटना का कारण उसके प्रेमी द्वारा शादी करने से इन्‍कार करना बताया जा रहा हैं। खास बात है कि चार दिन पहले किशोरी ने थाने में तहरीर देकर प्रेमी पर कार्रवाई की मांग भी की थी परंतु पुलिस बेपरवाह रही। हालांकि पुलिस तहरीर मिलने से इनकार कर रही है।

बहन सामान लेने के लिए कमरे में गई तो देखा शव

पटवरिया निवासी किशोरी अपनी मां एवं छोटी बहन के साथ रात में भोजन करके घर के दूसरी मंजिल पर स्थित कमरे में सोई थी। दूसरे दिन सुबह उनकी मां घरेलू कार्य के लिए नीचे आ गई। इसी दौरान उसने कमरे का दरवाजा बंद कर छत की कुंडी से लटककर जान दे दी। उसकी बहन कुछ सामान लेने के लिए ऊपर के कमरे में गई तो दरवाजा अंदर से बंद था। उसने खिड़की से झांककर अंदर देखा तो छत की कुंडी से उसकी बहन का शव लटक रहा था। उसने शोर मचाया तो स्वजन वहां पर पहुंचे। दरवाजा तोड़कर फंदे से शव उतारा। सूचना पर पुलिस वहां पहुंच गई और जरूरी कार्रवाई कर रही है।

तीन वर्षों से चल रहा था प्रेम संबंध

मृतक किशोरी का क्षेत्र के एक गांव निवासी युवक से लगभग तीन वर्षों से प्रेम संबंध चल रहा था। युवक का किशोरी के गांव में रिश्तेदारी होने से उसका अक्सर आना-जाना लगा रहता था। मोबाइल से लगातार संवाद जारी होने को लेकर दोनों शादी के लिए राजी हो गए थे। बताया जाता है कि लगभग एक पखवारा पहले युवक ने शादी करने से इन्‍कार कर दिया था।

चार दिन चलता रहा सुलह समझौते का प्रयास

प्रेमी द्वारा शादी से इन्‍कार करने पर किशोरी ने चार दिन पूर्व थाने में तहरीर दी थी। इसे लेकर लगातार चार दिनों से दोनों के स्वजन थाने पर ही सुलह-समझौते के प्रयास में लगे थे। युवक शादी नहीं करने और किशोरी उससे शादी की जिद पर अड़ी रही।

सक्रिय होती पुलिस तो बच सकती थी किशोरी की जान

गांव के लोगों की मानें तो किशोरी की शिकायत के बाद चार दिन से पुलिस थाने में समझौता कराने में लगी रही। यदि पुलिस ने युवक के खिलाफ समय रहते कार्रवाई की होती तो किशोरी की जान बच सकती थी।

पुलिस को नहीं थी जानकारी

प्रभारी निरीक्षक बखिरा चंदन कुमार ने बताया कि उन्हें मामले की जानकारी नहीं हैं। उन्हें चार दिन के अंदर इस प्रकार की कोई तहरीर नहीं मिली है। घटना की जानकारी होने पर जब वह मौके पर पहुंचे तो पता चला कि किशोरी और युवक के परिजनों के बीच चार दिन से इस मामले को लेकर पंचायत चल रही थी।

Edited By: Rahul Srivastava