सिद्धार्थनगर, जागरण संवाददाता। PFI member arrested in Siddharthnagar: पापुलर फ्रंट आफ इंडिया (PFI) के एक कार्यकर्ता को गुरुवार की देर शाम को एटीएस (आतंकवाद निरोधी दस्ता) व इंटेलीजेंस ब्यूरो (आइबी) की टीम ने शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के शोहरतगढ़ कस्बे से पकड़ा है। पकड़ा गया पीएफआइ कार्यकर्ता 28 वर्षीय अनीसुर्र रहमान पुत्र लतीफुर्र रहमान शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के अतरी का निवासी है। वह लंबे समय से यहां पर उसकी गतिविधियां संदिग्ध थीं। एटीएस व आइबी की टीम उसे पूछताछ के लिए अपने साथ किसी गोपनीय स्थान पर ले गई हैं। इसे लेकर एटीएस व पुलिस पूरी तरह से गोपनीयता बरत रही है।

पूछताछ के लिए अनीसुर्र रहमान को अपने साथ ले गई टीम

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया और उससे जुड़े लिंक पर देशभर में छापेमारी कर रही हैं। टेरर फंडिंग और कैंप चलाने को लेकर जांच एजेंसी यह कार्रवाई कर रही है। एनआइए व 11 राज्यों की पुलिस मिलकर अभी तक देश के 11 राज्यों से पीएफआई से जुड़े 107 लोगों को अलग-अलग मामलों में पकड़ चुकी है। इसी कड़ी में गुरुवार को एटीएस गोरखपुर की टीम व आइबी की टीम ने शोहरतगढ़ के अतरी में दबिश देकर अनीसुर्र रहमान को पकड़ लिया। एटीएस अभी इसकी पुष्टि नहीं कर रही है, लेकिन पुलिस के जानकार सूत्रों के मुताबिक अनीसुर्र रहमान के पीएफआइ से संबंध हैं। काफी दिनों से उसकी गतिविधियाें को लेकर भी एटीएस को संदेह था। गुरुवार को जैसे ही प्रदेश की पुलिस पीएफआइ और उससे जुड़े लिंक को लेकर सक्रिय हुई, टीम ने उसे दबोच लिया। वह उसे पूछताछ में अपने साथ लेकर चली गई।

पीएफआइ के राष्ट्रीय अध्यक्ष की गिरफ्तारी के बाद सक्रिय हुई हैं टीमें

एनआइए ने पीएफआइ के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओएमएस सलाम और दिल्ली अध्यक्ष परवेज अहमद को गिरफ्तार कर लिया गया। उनसे मिली जानकारी के बाद देश भर में छापेमारी अभियान चल रहा है। गृह मंत्री अमित शाह ने देशभर में पीएफआइ के खिलाफ जारी छापेमारी को लेकर एनएसए, गृह सचिव और डीजी एनआइए के साथ इस पर बैठक कर चुके हैं।

अतरी में पहले भी मिल चुका है पीएफआइ का कार्यकर्ता

अतरी में पहले में भी पीएफआइ कार्यकर्ता राशिद की गिरफ्तारी हो चुकी है। उसे एक वर्ष भर पूर्व बस्ती रेलवे स्टेशन से एसटीएफ गोरखपुर व बस्ती पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

क्या है पीएफआइ

पापुलर फ्रंट आफ इंडिया या पीएफआई खुद को एक चरमपंथी इस्लामिक संगठन बताता है। संगठन का कहना है कि वह पिछड़ों और अल्पसंख्यकों के हक की आवाज उठाता है। संगठन के विकिपीडिया पेज के हिसाब से इसकी स्थापना 2006 में नेशनल डेवलपमेंट फ्रंट (एनडीएफ, दक्षिण भारत परिषद मंच) के उत्तराधिकारी के रूप में हुई थी।

एटीएस ने शोहरतगढ़ से एक व्यक्ति को पीएफआइ कार्यकर्ता के संदेह के रूप में पकड़ा है। टीम उसे पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई। इससे अधिक अभी कोई जानकारी पुलिस के पास नहीं है। - अमित कुमार आनंद, पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर।

Edited By: Pradeep Srivastava