गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर में उमस भरी गर्मी चरम पर है। तापमान तो 37.5 डिग्री सेल्सियस तक ही पहुंचा है लेकिन धूप और नमी के मेल ने हीट इंडेक्स चढ़ा दिया है, जिसके चलते लोगोें को 45 डिग्री सेल्सियस की गर्मी का अहसास हो रहा है। न्यूनतम तापमान के 28 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाने की वजह से रात भी गर्म हो गई है। ‘ऐसे में न दिन में चैन न रात में’ जैसी कहावत चरितार्थ हो रही है। अब राहत के लिए पूर्वांचलवासियों को बारिश की आस है।

दस जून से बार‍िश की संभावना

मौसम विशेषज्ञ के अनुसार फिलहाल अभी तीन दिन तक बारिश का इंतजार करना होगा। प्री-मानसून के रूप में 10 जून से बारिश की संभावना बन रही है। हालांकि आठ जून से ही बादलों के डेरा जमाने और बूंदाबादी का सिलसिला शुरू हो जाएगा लेकिन गर्मी से राहत 10 जून से होने वाली बारिश ही देगी, जो बाद में मानसूनी बारिश से जुड़ जाएगी। 10-11 जून को 15 से 20 मिलीमीटर बारिश की संभावना जताई जा रही है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के उत्तरी जिलों महराजगंज और सिद्धार्थनगर में भारी बारिश भी हो सकती है।

12 से 15 के बीच मानसून आने की संभावना

प्री-मानसून की बारिश की वजह स्थानीय गर्म वायुमंडलीय परिस्थितियां होगी। मौसम विशेषज्ञ के मुताबिक 12 से 15 के बीच मानसूनी बारिश की भी वायुमंडलीय परिस्थितियां बन गई हैं। बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्से में मानसूद दस्तक देने लगा है। 11 जून तक वहां निम्न वायुदाब क्षेत्र तैयार हो जाएगा, जिसके चलते 12 के बाद से 15 जून के बीच कभी भी मानसूनी बारिश का सिलसिला शुरू हो सकता है, जो अगले रूक-रूक कर सप्ताह भर चल सकता है। बारिश के दौरान बिजली की चमक और बादलों की गरज भी सुनने को मिलेगी। 30 से 40 किलोमीटर की रफ्तार से चलने वाली पुरवा हवाएं बारिश के बीच आंधी का अहसास कराएंगी।

Edited By: Pradeep Srivastava