गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर जिले के पीपीगंज थाने के हिस्ट्रीशीटर सपा नेता अखिलेश यादव उर्फ भोला की पांच करोड़ की संपत्ति जब्त की गई है। जिलाधिकारी के निर्देश पर रविवार को तहसील प्रशासन और स्थानीय पुलिस ने कार्रवाई की है।

यह है पूरा मामला

मिली जानकारी के अनुसार जिला अधिकारी गोरखपुर के निर्देश पर रविवार की सुबह करीब दस बजे क्षेत्राधिकारी कैंपियरगंज योगेंद्र सिंह व तहसीलदार राकेश कुमार कनौजिया तथा थानाध्यक्ष पीपीगंज दीपक कुमार सिंह के नेतृत्व में पीपीगंज पुलिस ने भारी फोर्स के साथ थाना रोड पर स्थित अखिलेश यादव उर्फ भोला के भवन व भूमि तथा पीपीगंज नगर के वार्ड नंबर छह बापू नगर में स्थित तीन मंजिला इमारत को सील कर जब्त कर दिया है। वहीं शातिर बदमाश के सहजनवां थाना क्षेत्र के भिटनी गांव में भी कार्यवाही की गई है। सरकारी आंकड़े के अनुसार बदमाश का कुल लगभग पांच करोड़ की संपत्ति जब्त किया गया है।

बदमाश के खिलाफ दर्ज हैं 44 मुकदमे

बीस हजार रुपये के इनामी सपा नेता पूर्व जिला पंचायत सदस्य अखिलेश यादव उर्फ भोला के विरुद्ध जनपद के विभिन्न थाना क्षेत्रों में लगभग 44 गंभीर मुकदमा दर्ज हैं। पुलिस उसकी तलाश में जुटी है, लेकिन बदमाश अभी फरार है।

इनकी मौजूदगी में हुई कार्रवाई

इस मौके पर प्रमुख रूप से क्षेत्राधिकारी कैंपियरगंज योगेन्द्र सिंह, ‌तहसीलदार राकेश कुमार कनौजिया, थानाध्यक्ष पीपीगंज दीपक कुमार सिंह, थानाध्यक्ष कैम्पियरगंज, राघवेन्द्र सिंह, समेत दर्जनों की संख्या में पुलिस कर्मी इस मौजूद रहे।

क्या कहते हैं अधिकारी

एसपी नार्थ मनोज अवस्थी ने कहा कि गैंगस्टर के आरोपित अखिलेश यादव उर्फ भोला की पांच करोड़ की सम्पत्ति जिलाधिकारी ने कुर्क करने का आदेश दिया है। रविवार को कैम्पियरगंज तहसील के अधिकारी और पीपीगंज थाना पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर की सम्पत्ति को कुर्क किया। अपराध से अर्जित अन्य सम्पत्ति के बारे में जानकारी की जा रही है। 

कब्जे के विवाद में सीआरपीएफ जवानों ने उखाड़ा पिलर

सहजनवां के डोमहरमाफी गांव में भूमि पर कब्जा करने को लेकर विवाद हो गया। आरोप है कि साथी के समर्थन में पहुंचे सीआरपीएफ जवानों ने भूमि पर लगा पिलर उखाड़ दिया। सहजनवां पुलिस ने इस मामले में 12 नामजद आरोपितों पर मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस आरोप की जांच कर रही है। गांव के योगेंद्र सिंह ने बताया कि अपनी भूमि पर पिलर लगाया था। जिससे सटे गांव में रहने वाले सीआरपीएफ जवान की भूमि है। दोपहर में 12 की संख्या में पहुंचे सीआरपीएफ जवानों ने स्थानीय लोगों की मदद से पिलर उखाड़ दिया। सहनजवां पुलिस सभी जवानों को पकड़कर थाने ले आयी। थानाध्यक्ष नितिन रधुनाथ श्रीवास्तव ने कहा कि मामला संज्ञान में है। राजस्व विभाग से रिपोर्ट मांगी गई है। दोषियों पर कार्रवाई होगी।

Edited By: Pragati Chand

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट