गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर के कैंपियरगंज के बलुआ में कोरोना संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है। जिले में 44 टीमें कोविड जांच के लिए लगा दी गई हैं। प्रतिदिन 2000 एंटीजन और इतनी ही रीयल टाइम पालीमरेज चेन रियेक्शन (आरटी-पीसीआर) जांच की जा रही है।

दो ज‍िलों के बीच फंसा बलुआ गांव

सीएमएओ डा. सुधाकर पांडेय ने बताया कि बलुआ गांव में कोरोना संक्रमण को देखते हुए गोरखपुर का स्वास्थ्य महकमा भी सतर्क हो गया है। बलुआ गोरखपुर जिले के कैंपियरगंज तहसील में पड़ता है लेकिन वह महराजगंज जिले के धानी स्वास्थ्य केंद्र के अंतर्गत आता है। इसलिए वहां स्वास्थ्य सेवा संबंधित कार्य महराजगंज जिले की टीम कर रही है। बलुआ गांव के नजदीक के दो गावों में गोरखपुर जिले का स्वास्थ्य महकमा कोविड की जांच करवा रहा है।

गुरुवार को शिवपुर करमहा और बसंतपुर गांव में लोगों की कोविड जांच कराई गई। शिवपुर करमहा में 48 लोगों की जांच हुई, कोई पाजिटिव नहीं मिला। जिला सर्विलांस अधिकारी डा. एके चौधरी और सैंपलिंग प्रभारी डा. अनिल कुमार सिंह की देखरेख में वहां टेस्ट और सर्विलांस की गतिविधियां चल रही हैं। वहां के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डा. भगवान प्रसाद को दिशा-निर्देशित किया गया है कि आसपास के सभी गांवों में आशा कार्यकर्ता, एएनएम और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सतर्क कर दिया जाए। अगर किसी में भी बुखार, खांसी, जुकाम जैसे कोविड के लक्षण हैं तो उनकी जांच अवश्य कराई जाए।

कोरोना से बचाव के उपाय

घर से बाहर निकलें तो मास्क पहनें।

शारीरिक दूरी का पालन करें।

हाथों को समय-समय पर सैनिटाइज करते रहें या साबुन-पानी से ठीक से धोते रहें।

भीड़ में जाने पर फेस शील्ड व हेडकैप लगाएं।

बाहर से आने पर कपड़ों को गर्म पानी व वासिंग पाउडर से साफ करें।

बाहर कुछ भी खाने-पीने से परहेज करें।

कोरोना रोधी वैक्सीन की दोनों डोज लगवाएं।

घर आए किसी भी व्यक्ति का हाथ सैनिटाइज कराने के बाद ही प्रवेश दें।

Edited By: Pradeep Srivastava