गोरखपुर, जागरण संवादददाता। गोरक्षपीठाधीश्वर और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार को मातृ शक्ति के प्रति अपनी अगाध श्रद्धा को प्रतिष्ठित करने की पहल को एक बार फिर मजबूत करते दिखे। उन्होंने शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर गोरखनाथ मंदिर के नवनिर्मित अन्न क्षेत्र (भंडारा भवन) में पूरे विधि-विधान के साथ परंपरागत कन्या पूजन किया। मां भगवती के नौ स्वरूपोें की प्रतीक नौ कन्याओं और एक बटुक भैरव के पांव पखारकर उन्होंने पहले पूजा-अर्चना की, उसके बाद अपने हाथों से भोजन कराकर दक्षिणा के साथ उनकी विदाई की। इस दौरान मंदिर में पहुंचे अन्य बच्चों को भी उसी श्रद्धाभाव के साथ भोजन कराया गया और विदाई की गई।

कन्या पूजन का समय दोपहर 11:30 बजे निर्धारित था।

शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर मुख्यमंत्री योगी ने गोरखनाथ मंदिर में किया कन्या पूजन

मुख्यमंत्री के पहुंचने से पहले आमंत्रित कन्याएं पूजन स्थल पर पहुंच गईं। सबसे पहले उन्होंने थार में नौ कन्याओं और एक बटुक भैरव को बारी-बारी से खड़ा कर उनका पांव पखारा। उसके बाद टीका लगाकर, माला पहनाकर चुनरी ओढ़ाई और आरती उतारी। पूजा के बाद कन्या भोज का कार्यक्रम शुरू हुआ। मुख्यमंत्री एक-एक सभी कन्याओं के पास गए और उनकी थाली में अपने हाथों से भोजन परोसा और बाकायदा पूछ-पूछ कर खिलाया। इस बात का ध्यान रखते दिखे कि किसी भी बच्चे की थाली में प्रसाद स्वरूप भोजन की कमी न रहे। इसे लेकर वह मंदिर प्रबंधन से जुड़े लोगों समय-समय पर निर्देशित करते भी दिखे।

दक्षिणा और उपहार देकर कन्याओं की हुई विदा, हर बच्चे को पूछ-पूछ कराया भोजन

भोजन के बाद मुख्यमंत्री ने सभी कन्याओं की अपने हाथ से उपहार और दक्षिणा देकर सम्मान के साथ विदा किया। मुख्यमंत्री का दुलार और प्यार देख बच्चे प्रफुल्लित नजर आए। कन्या पूजन का कार्य मंदिर के प्रधान पुजारी कमलनाथ की मौजूदगी में प्रधान पुरोहित आचार्य रामानुज त्रिपाठी वैदिक ने सम्पन्न कराया। मंदिर प्रबंधन के द्वारिका तिवारी, वीरेंद्र सिंह, अरुणेश शाही, दुर्गेश बजाज, अमित सिंह मोनू, विनय गौतम, आनंद गुप्ता आदि सक्रिय दिखे।

फोटो के लिए बच्चों से घिर गए योगी

कन्या पूजन के दौरान मुख्यमंत्री योगी का दुलार देख एक छोटी बच्ची ने भोजन के बाद मुख्यमंत्री के साथ तस्वीर खिंचवाने की इच्छा जाहिर की। जैसे ही उन्होंने उस बच्ची की इच्छा का मान रखा, वहां मौजूद और बच्चे भी तत्काल उनके पास पहुंच गए ओर फोटो के लिए उन्हें घेर लिया। मुख्यमंत्री ने साथ फोटो खिंचवाने की सभी की इच्छा पूरी की।

कभी नहीं भूलूंगी यह दिन। महराज जी बहुत अच्छे हैं। अगली बार भी आऊंगी पूजा में, चाहे भले पापा से जिद करना पड़े। - अनन्या तिवारी

योगी बाबा जैसा कोई नहीं। हमारी पूजा ही नहीं करते, साथ-साथ दुलार भी करते हैं। आज मैं यहां आकर बहुत खुश हूं। - दीपिका

सुबह उठने के साथ ही मंंदिर आने की तैयारी में जुट गई थी। योगी अंकल ने पूजा की तो बहुत अच्छा लगा। अगली बार आउंगा। - अदित्री

थाली में खड़ाकर योगी जी हमारा पैर धोए। टीका लगाकर पूजा किए। खाना खाते समय भी बार-बार पूछते रहे। वो बहुत अच्छे हैं। - विजय राज

पहले भी पूजा में आ चुका हूं। आज एक बार फिर महराज जी से पूजा कराने का मौका मिला। महराज जी बहुत दुलार करते हैं। - विश्वजीत कान्हा।

Edited By: Pradeep Srivastava