गोरखपुर, जागरण संवाददाता। Foundation stone in Gorakhpur: गोरखपुर शहर को एक बार फिर बड़ी विकास योजनाओं की सौगात मिलने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद नगर निगम ने 9.50 अरब से ज्यादा की विकास परियोजनाओं के लोकार्पण और शिलान्यास की तैयारी शुरू कर दी है। इनमें तकरीबन 6.50 अरब रुपये सीवर लाइन पर खर्च होने जा रहे हैं। मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय क्षेत्र में सीवर लाइनों का लोकार्पण होगा तो सूरजकुंड क्षेत्र में दो अरब 30 करोड़ रुपये से सीवर लाइन बिछाए जाने के कार्य का शिलान्यास होगा। सूरजकुंड क्षेत्र में 10 एमएलडी का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट भी स्थापित किया जाएगा। इससे इस इलाके के सीवर का निस्तारण तो हो ही जाएगा राप्ती और रोहिन नदियों में गंदा पानी नहीं जा पाएगा।

तेजी से चल रहा है सीवर लाइन का काम

गोरखपुर शहर में लगातार विकास की योजनाओं पर काम चल रहा है। सड़क-नाली के साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीवर लाइनों को बिछाने का काम तेजी से पूरा कराने के निर्देश दिए थे। अब नगर निगम ने सूरजकुंड क्षेत्र में सीवर लाइन बिछाने के कार्य की शुरुआत का निर्णय लिया है। जल निगम के साथ इस कार्य को पूरा कराया जाएगा। पिछले दिनों शासन ने इसके लिए 2 अरब 30 करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत किया था। अब रुपये मिलने वाले हैं।

195 करोड़ रुपये से विकसित होंगे 32 गांव

नगर निगम क्षेत्र में पिछले साल 32 गांवों को शामिल किया गया था। इन गांव में अभी नगर निगम की ओर से सिर्फ सफाई और सैनिटाइजेशन की व्यवस्था की जा रही है। गांव में विकास कार्यों के लिए नगर निगम ने 195 करोड रुपये का प्रस्ताव बनाया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रस्ताव को स्वीकृति देने के साथ ही धनराशि भी जारी करने के निर्देश दिए थे। अब धनराशि आने वाली है। इसके साथ ही इन इलाकों में सड़क-नाली, पथ प्रकाश और पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था की जाएगी। सबसे ज्यादा तकरीबन 17 करोड़ रुपये भरवलिया क्षेत्र में खर्च होने हैं।

180 करोड़ की परियोजनाओं की दी है सौगात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को नगर निगम की ओर से दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में आयोजित जनसभा में 180 करोड़ 32 लाख की विकास योजनाओं की सौगात दी है। इनमें गोलघर के जलकल भवन परिसर में बना मल्टीलेवल पार्किंग भी है। इस पार्किंग के बनने से गोलघर क्षेत्र में जाम की समस्या का स्थाई समाधान हो जाएगा। पार्किंग में एक साथ 605 वाहन खड़े किए जा सकते हैं। इनमें 300 चार पहिया और 305 दुपहिया वाहन शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने पार्किंग का शुभारंभ करने के साथ ही इसकी व्यवस्था का भी रविवार देर शाम निरीक्षण किया था। पांच नवंबर तक नागरिकों से पार्किंग के नाम पर रुपये नहीं जमा कराए जाएंगे।

Edited By: Pradeep Srivastava