गोरखपुर, जागरण संवाददाता। बीते एक सप्ताह से पड़ रही उसम भरी भीषण गर्मी से शनिवार को राहत मिल ही गई। झमाझम बारिश ने गली मोहल्‍लों के साथ सड़काें पर पानी भर दिया है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में बारिश की वायुमंडलीय परिस्थितियां तैयार हो गई हैं। इन परिस्थितियों चलते बारिश का सिलसिला शनिवार से शुरू हो गया है। अगले दो दिन तक रुक-रुक कर चलता रहेगा। इस बारिश के कारण गोरखपुर और आसपास के क्षेत्रों के तापमान और हीट इंडेक्स दोनों में गिरावट हो गई है।

मौसम विज्ञानी कैलाश पांडेय ने बताया कि तीन दिन पहले से बंगाल की खाड़ी के निचले वायुमंडल में बन रहा हवा के कम दबाव का क्षेत्र सक्रिय होकर झारखंड होते हुए पूर्वी उत्तर प्रदेश की ओर बढ़ रहा है। इसके अलावा दक्षिण-पूर्व उत्तर प्रदेश की ऊपरी हवाओं में चक्रवातीय हवाओं का क्षेत्र भी बनकर तैयार है। उधर बंगाल की खाड़ी की नमी लेकर पुरवा हवाओं का पूर्वी उत्तर प्रदेश तक पहुंचने का सिलसिला जारी है, जिसके चलते गोरखपुर और आसपास के क्षेत्रों में पर्याप्त नमी है। यह वह वायुमंडलीय परिस्थितियां हैं, जिनके चलते 17 जुलाई से समूचे पूर्वी उत्तर प्रदेश में बादलों की गरज और बिजली की चमक के बीच रुक-रुक कर बारिश का क्रम शुरू हो गया है। कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम तो कुछ पर मध्यम से भारी बारिश भी हुई है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के उत्तरी हिस्से यानी महराजगंज और सिद्धार्थनगर में अतिवृष्टि के भी आसार हैं। सर्वाधिक बारिश 19 जुलाई को रिकार्ड होने का पूर्वानुमान है।

बारिश से गिरा गोरखपुर का तापमान

शनिवार से शुरू हुई बारिश के चलते गोरखपुर का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने और न्यूनतम तापमान के 25 डिग्री सेल्सियस से कम हो जाने की उम्मीद है। धूप को निकलने का अवसर न मिलने से हीट इंडेक्स भी कम होगा, जिसके चलते दो-तीन दिन तक उमस से भी राहत मिल सकती है। शुक्रवार को गोरखपुर का अधिकतम तापमान 34.2 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 27.8 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। धूप और नमी के मेल के चलते हीट इंडेक्स बढऩे से लोगों को 42 डिग्री सेल्सियस की गर्मी का अहसास हुआ।

Edited By: Satish Chand Shukla