गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दूसरे कार्यकाल में औद्योगिक विकास की गति और तेज हुई है। गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण ने पहले छह महीने में करीब 2500 करोड़ रुपये के निवेश का प्लेटफार्म तैयार किया है। गीडा प्रबंधन ने तेजी दिखाते हुए करीब 88.5 एकड़ जमीन विभिन्न सेक्टर की औद्योगिक इकाईयों के लिए आवंटित की है। इस निवेश से करीब 5200 लोगों को रोजगार मिल सकेगा। भूखंड आवंटन की प्रक्रिया अभी जारी है।

पेप्सिको के बाटलिंग प्लांट को मिली जमीन

इस बीच गीडा ने सबसे बड़े निवेशक के रूप में प्रतिष्ठित पेप्सिको कंपनी के बाटलिंग प्लांट वरुन बेवरेजेस लिमिटेड को जमीन आवंटित की है। वरुन बेवरेजेस संयुक्त राज्य अमेरिका के बाहर विश्व में पेप्सिको की दूसरी सबसे बड़ी बाटलिंग कंपनी है। वरुन बेवरेजेस की ओर से एक हजार 71 करोड़ रुपये का निवेश किया जा रहा है और इससे 1500 लोगों को रोजगार मिलेगा। गीडा के सेक्टर 26 में एक और बड़ा निवेश हो रहा है। मेसर्स केयान डिस्टिलरीज को करीब 20 एकड़ भूमि आवंटित की गई है। यह कंपनी 702 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है और इसे बढ़ाने का प्रस्ताव भी है। यहां करीब एक हजार लोगों को रोजगार मिलेगा।

यह कंपनियां भी कर रहीं निवेश

ज्ञान के नाम से दूध एवं डेयरी उत्पाद तैयार करने वाली कंपनी मेसर्स सीपी मिल्क एंड फूड प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड गीडा में 118 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश कर रही है। इस कंपनी को करीब पांच एकड़ जमीन दी गई है। गीडा के सेक्टर 26 में ही मेसर्स तत्व प्लास्टिक्स पाइप्स प्राइवेट लिमिटेड की ओर से भी करीब 102 करोड़ रुपये का निवेश किया जा रहा है। क्वार्ट्ज ओपलवेयर द्वारा 50 करोड़ एवं आदित्य मोटर द्वारा 20 करोड़ रुपये का निवेश किया जा रहा है। इन इकाईयों में करीब एक हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। इसके अतिरिक्त रेडीमेड गारमेंट उद्योग के लिए 40 भूखंडों का आवंटन किया जा चुका है।

पिछले छह महीने में कई औद्योगिक इकाईयों के लिए जमीन दी गई है। हम निवेशकों के स्वागत के लिए सदा तैयार हैं। उन्हें किसी प्रकार की समस्या नहीं आने दी जाएगी। सरकार की मंशा के अनुरूप गीडा औद्योगिक विकास के लिए तेजी से काम कर रहा है। - पवन अग्रवाल, सीईओ गीडा।

Edited By: Pradeep Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट