गोरखपुर, जेएनएन : देवरिया में चिह्नित किए गए भू-माफिया का ब्योरा एंटी भूमाफिया पोर्टल के एबीएमपी प्रारूप में दर्ज न होने पर डीएम खफा हैं। उन्होंने सभी एसडीएम को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। साथ ही चेतावनी दी है कि यदि तीन दिन के भीतर ब्योरा फीड नहीं हुआ तो प्रशासनिक कार्रवाई की जाएगी। गलतियों पर किसी को भी बख्‍शा नहीं जाएगा। कड़ी कार्रवाई की जाएगी। राजस्व परिषद ने दिसंबर, 2020 में भूमाफिया का ब्योरा एंटी भूमाफिया पोर्टल के तय प्रारूप में कालम तीन से कालम नौ तक संबंधित एसडीएम व कालम 10 की सूचना संबंधित थाने के इंस्पेक्टर या थानाध्यक्ष को दर्ज कराने के निर्देश दिए थे, जिसके क्रम में डीएम अमित किशोर ने सभी एसडीएम को निर्देश दिए थे। इसके 15 दिन बाद भी प्रविष्टि दर्ज नहीं की गई। डीएम ने इसे खेदजनक बताया है।

जिले में कुल 28 भू-माफिया चिह्नित

जिले में कुल 28 भू-माफिया चिह्नित किए गए हैं, जिसमें सदर तहसील क्षेत्र में दस, सलेमपुर क्षेत्र में 11, रुद्रपुर क्षेत्र में तीन, भाटपाररानी क्षेत्र में चार लोग शामिल हैं। इन सभी पर सरकारी व लोगों की भूमि पर जबरन कब्जा का आरोप है। बरहज तहसील क्षेत्र में एक भी भूमाफिया चिह्नित नहीं किए गए हैं। जिला प्रशासन की तरफ से भू-माफिया की तैयार की गई सूची पर सवाल उठते रहे हैं। लोगों का कहना है कि यह सूची तीन साल पहले तैयार की गई थी, जिसमें कई सफेदपोश लोगों को शामिल करने की जहमत प्रशासन ने नहीं उठाई। यदि निष्पक्ष तरीके से सूची तैयार की जाए तो कई सफेदपोश चेहरे भी इसमें शामिल हो सकते हैं।

पोर्टल पर ब्‍योरा फीड करने के निर्देश

मुख्‍य राजस्‍व अधिकारी अमृतलाल बिंद ने कहा कि राजस्व परिषद ने पोर्टल पर ब्योरा फीड करने का निर्देश दिया है। जिसका अनुपालन न होने पर डीएम की तरफ से कारण बताओ नोटिस जारी की गई है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021