सिद्धार्थनगर:कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेज हो गई है। दिनोंदिन एक्टिव केस की संख्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में कोरोनारोधी टीका ही बचाव का कारगर हथियार बनकर सामने है। अगर आपको कोरोना टीके की डोज लग गई है, तो पास-पड़ोस को भी प्रेरित कर टीका लगवाएं। गर्भवती, धात्री व बीमार लोग जानकारी के अभाव में टीके की खुराक नहीं ले रहे हैं। जबकि विशेषज्ञों की राय है कि ऐसे लोगों को भी आसानी से टीका लगाया जा सकता है।

एसीएमओ व जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. सौरभ चतुर्वेदी का कहना है कि राज्य ने 18 वर्ष से ऊपर के करीब 18.93 लाख लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य दिया है, जिसके सापेक्ष करीब 17.98 लाख लोगों ने टीके की पहली डोज लगाई जा चुकी है। एक जनवरी से 15 से 17 वर्ष के किशोरों के लिए प्रारंभ हुए टीकाकरण कार्यक्रम में 1.79 लाख का लक्ष्य निर्धारित है। जिसके सापेक्ष 47756 किशोरों ने पहली खुराक लगवा लिया है। आठ फीसद लोग टीकाकरण की एक भी अभी तक नहीं लगवा पाए हैं। जिसमें करीब छह फीसद लोग जिले से बाहर हैं। दो फीसद गर्भवती, धात्री व शुगर, बीपी आदि बीमारियों से ग्रस्त हैं। यह भय वश टीकाकरण नहीं करा रहे हैं। यूनीसेफ के जिला समन्वयक अमित शर्मा का कहना है कि कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इससे बचने के लिए सभी को टीकाकरण कराना चाहिए।

अब तक लगी डोज एक नजर में

प्रथम डोज- 17.98 लाख

दूसरी डोज- 11.25 लाख

बूस्टर डोज- 3953

उम्र के हिसाब से टीकाकरण

18-44 साल- 17.80 लाख

45- 60 साल 6.80 लाख

60 वर्ष से अधिक - 4.24 लाख

15-17 साल- 47756 । खेलने से पहले दिखाना होगा टीकाकरण प्रमाणपत्र सिद्धार्थनगर : तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रशासन ने सख्त रुख अपनाया है। सोमवार को क्रीड़ा विभाग ने निर्देश जारी हुए कहा है कि स्टेडियम में खेलने से पहले लोगों को टीकाकरण के दोनों डोज लगवाने का प्रमाणपत्र विभाग में जमा करना होगा। इसी के बाद खेलने की अनुमति प्रदान की जाएगी।

जिला क्रीड़ाधिकारी एसडीएस यादव ने बताया कि स्टेडियम के खेल मैदान व बहुउद्देशीय क्रीड़ा हाल में रोजाना सुबह व शाम को शौकिया खिलाड़ी खेलने के लिए आते हैं। स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रशासनिक अधिकारी, सरकारी कर्मचारी, चिकित्सक, इंजीनियर, अधिवक्ता, पुलिसकर्मी आते रहते हैं। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए विभाग ने सतर्कता बरतते हुए निर्णय किया है कि कोविड वैक्सीन का दोनों डोज व आरोग्य सेतू एप में रजिस्ट्रेशन कराने वालों को ही प्रवेश की अनुमति होगी।

Edited By: Jagran