गोरखपुर, जागरण संवाददाता। कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का लोकार्पण होने के बाद वहां के सुंदरीकरण परियोजनाओं को भी गति मिली है। इस ऐतिहासिक शहर की सुंदरता में चारचांद लगाने के लिए गोरखपुर विकास प्राधिकरण (जीडीए) भी तैयार है। जीडीए द्वारा कराए जाने वाले कार्यों के लिए शासन की ओर से करीब 17 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं और उसमें से पांच करोड़ रुपये की पहली किस्त जारी भी हो चुकी है। प्राधिकरण की ओर से यहां होने वाले विकास कार्यों की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की जा रही है। जल्द ही काम भी शुरू किया जाएगा।

तैयार की जा रही डीपीआर, जल्द शुरू किया जाएगा काम

शासन की ओर से बुद्धिस्ट सर्किट के विकास की योजना बनाई गई है। इसके तहत कुकुत्था नदी की सफाई का काम स्थानीय प्रशासन की ओर से किया जा रहा है। इस नदी के किनारे सुंदरीकरण का काम जीडीए की ओर से किया जाना है। कुशीनगर प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी संभाल रहे जीडीए के अधिशासी अभियंता किशन सिंह बताते हैं कि कुकुत्था रिवर फ्रंट के विकास की योजना है, यह काम जीडीए को करना है। यहां खूबसूरत पार्क, पाथ वे बनाए जाएंगे। बैठने की व्यवस्था की जाएगी। जगह-जगह छोटे-छोटे शेड का निर्माण किया जाएगा। नहाने, पूजा-पाठ के लिए घाट बनाए जाएंगे। पीने के पानी का भी इंतजाम होगा। लोगों की सुविधा के लिए सामुदायिक शौचालय भी बनाए जाएंगे। यहां घाट का निर्माण भी किया जाएगा।

यह कार्य भी होंगे

कुशीनगर में विपासना उपवन का भी विकास किया जाएगा। पुराने साधना केंद्र की जगह वृक्ष के नीचे साधना केंद्र बनाया जाएगा, जहां बैठकर बौद्ध भिक्षु साधना कर सकेंगे। इसके साथ ही राही पथिक निवास में 28 कक्षों की मरम्मत की जाएगी। लाबी की मरम्मत होगी और इस पथिक निवास का सुंदरीकरण भी किया जाएगा। फूड प्लाजा कांप्लेक्स का भी विकास किया जाएगा। इसके साथ ही हिरण्यवती नदी के बुद्ध घाट पर पर्यटकों की सुविधा के लिए एक फुटओवरब्रिज का निर्माण भी किया जाएगा। सभी परियोजनाओं को विश्वबैंक के सहयोग से पूरा किया जाएगा।

कुशीनगर में सुंदरीकरण की कई परियोजनाओं को पूरा करने की जिम्मेदारी जीडीए को मिली है। पांच करोड़ रुपये जारी हो चुके हैं। डीपीआर बनाया जा रहा है। काम पूरा होने के बाद पर्यटकों को काफी सुखद अनुभूति होगी। - प्रेम रंजन सिंह, उपाध्यक्ष जीडीए।

Edited By: Pradeep Srivastava