गोरखपुर (जेएनएन)। रेलवे आरक्षण टिकट के अवैध कारोबार का भंडाफोड़ हुआ। अंतरराज्यीय रेल टिकट कालाबाजारी का सरगना शनिवार को बस्ती से दबोचा गया। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की टीम को जरिए मुखबिर सूचना मिली कि टिकट कारोबार का सरगना शहर के दक्षिण दरवाजा चौराहे पर है। आरपीएफ टीम तत्काल हरकत में आई और उसे अपने गिरफ्त में ले ली। कारोबार के इस सरगना की पहचान अतिकुल्ला पुत्र जमाल शाह निवासी फतेहपुर थाना भवानी गंज जिला सिद्धार्थनगर के रूप में हुई है।
गिरोह के छह सदस्य हो चुके हैं गिरफ्तार
इसके पहले इस कारोबार से जुड़े अतीकुल्लाह के गिरोह के 6 सदस्य गिरफ्तार कर जेल भेजे जा चुके है। तभी आरपीएफ के राडार पर अतीकुल्लाह भी चल रहा था। सरगना की तलाश तीन महीने से थी। शनिवार को आरपीएफ व सीआइबी टीम की मदद से आरोपित को पकड़ने में कामयाबी मिली। आरपीएफ इंस्पेक्टर ने बताया कि 7 जुलाई को टिकट कालाबाजारी के कारोबार में लिप्त चार लोग पकड़े जा चुके है। इसमें तीन लोग भोपाल के थे। इसके बाद दो और आरोपी पकड़े गए। जिनके पास से 4 लाख 8 हजार सात सौ रुपये मूल्य के 102 आरक्षण टिकट बरामद किया गया था।
इस मामले में आरपीएफ ने 10 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। कांस्टेबल कुशलपाल सिंह, कुंवर विशाल सिंह, इंद्रजीत गिरि, बेचू खरवार, सीआइबी कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल प्रेम कुमार राय ने सरगना अतिकुल्ला को गिरफ्तार किया है। आरोपित के पास से 1 टिकट, कारोबार में प्रयोग होने वाला मोबाइल भी बरामद हुआ है। इंस्पेक्टर ने बताया कि कारोबार में लिप्त अन्य आरोपितों को पैसा इंटरनेट के जरिए भेजता था। अभी दो लोगों के नाम और प्रकाश में आए है। जिनकी तलाश जारी है।
बेवा चौराहे से एक कारोबारी गिरफ्तार
आरपीएफ ने शनिवार को ही अवैध टिकट के कारोबार में लिप्त एक और आरोपित को बेवा चौराहे से गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया व्यक्ति आयान ट्रेवेल्स का संचालक मो. हुसैन पुत्र सिकंदर अली निवासी ग्राम जमोती थाना डुमरियागंज जिला सिद्धार्थनगर है। आरोपित के पास से 41 हजार रुपये मूल्य के 19 रेल टिकट, एक लैपटाप, 1 डेक्सटाप, 1 प्रिंटर, डोंगल बरामद हुआ है। इसके अलावा 35 आइडी भी मिली है। आरपीएफ इंस्पेक्टर नरेंद्र यादव, योगेंद्र प्रताप सिंह, कुशलपाल सिंह, कुंवर विशाल ¨सह, भूपेंद्र कुमार राय, मुन्ना कुमार शाह, चंद्रमणि पांडेय शामिल रहे।