गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर युवती को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म करने के तीन आरोपितों पर जीआरपी ने गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई की है। बिहार के बेगूसराय, देवरिया व गोरखपुर जिले के रहने वाले आरोपित इस समय जिला कारागार में निरुद्ध हैं। घटना के सात दिन बाद ही विवेचक ने इस मामले में चार्जशीट दाखिल कर दिया था।

यह है मामला

महराजगंज जिले की रहने वाली स्वजन से नाराज होकर गोरखपुर चली आयी थी। यहां वह रेलवे स्टेशन पर गुजारा कर रही थी। सात सितंबर की रात को वह प्लेटफार्म नंबर एक के पश्चिमी छोर पर दोस्त के साथ बैठकर बात कर रही थी। इसी दौरान पहुंचे तीन युवकों ने दोस्त को पीटकर भगा दिया। युवती को अगवा कर रेलवे लाइन किनारे झाड़ी में दुष्कर्म किया। सीसी कैमरा फुटेज व सर्विलांस की मदद से जीआरपी व जिले की क्राइम ब्रांच ने छानबीन की तो पता चला कि स्टेशन पर कूड़ा बीनने वाले युवकों ने वारदात को अंजाम दिया है।

नौ सितंबर को पुलिस ने किया था मामले का पर्दाफाश

नौ सितंबर को जीआरपी ने देवरिया जिले के सलेमपुर थाना क्षेत्र के भटवा धर्मपुर निवासी राजा उर्फ इम्तियाज मुहम्मद अंसारी, गोरखपुर के शाहपुर के कृष्णा नगर चौराहा निवासी संतोष चौहान और बिहार के बेगूसराय, लाखो के धबौली गांव निवासी अंकित पासवान को गिरफ्तार कर घटना का पर्दाफाश किया था। एसपी रेलवे डा. अवधेश सिंह ने बताया कि 14 सितंबर को जीआरपी थाना प्रभार ने न्यायालय में आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दिया था।जिलाधिकारी की अनुमति पर शुक्रवार को थाना प्रभारी विजय प्रताप सिंह ने गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा दर्ज कराया।

थाने पहुंची पीड़ित ने दी थी घटना की जानकारी

आरोपितों के चंगुल से छूटने के बाद खून से लथपथ पीड़ित युवती ने जीआरपी थाना पहुंचकर घटना की जानकारी पुलिसकर्मियों को दी थी। सूचना मिलते ही थाने पहुंचे एसपी रेलवे ने पीड़ित को मेडिकल कालेज में भर्ती कराने के साथ ही आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

धर्मशाला बाजार में रहते थे आरोपित

बिहार, देवरिया व शाहपुर क्षेत्र के रहने वाले आरोपित धर्मशाला बाजार में रहते थे। छानबीन में पता चला कि रात को महिलाओं को अकेला पाकर यह छेड़खानी करने के साथ ही अभद्र टिप्पणी करते थे।

Edited By: Pragati Chand

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट