गोरखपुर, जागरण संवाददाता : संतकबीर नगर जिले के बेलहर कला, महुली, धनघटा व धर्मसिंहवा थाने की पुलिस ने चार किशोरियों को बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) में पेश किया। इसमें से एक किशोरी को समिति के सदस्यों ने राजकीय बालिका गृह मोतीनगर-लखनऊ भेज दिया। वहीं तीन किशोरियों को उनके माता-पिता को सौंप दिया।

बेलहर कला पुलिस ने 16 वर्षीय किशोरी को पेश किया कोर्ट में

समिति के अध्यक्ष अमित कुमार उपाध्याय व सदस्य सत्य प्रकाश उर्फ टीटू ने बताया कि बेलहर कला पुलिस ने सीडब्ल्यूसी में 16 वर्षीय किशोरी को पेश किया। पूछताछ में पता चला कि किशोरी का अपहरण हो जाने पर मां ने थाने में तहरीर दी थी। इस पर पुलिस ने 22 अक्टूबर 2020 को मुकदमा दर्ज किया था। किशोरी की बरामदगी के बाद उसे संरक्षण के लिए यहां पर लाए। माता-पिता समिति में उपस्थित नहीं थे। वहीं किशोरी अपने घर नहीं जाना चाहती थी, इसलिए उन्हेंं राजकीय बालिका गृह मोतीनगर-लखनऊ भेज दिया गया।

किशोरी को फुसलाकर भगा ले गया था युवक

महुली पुलिस ने 17 वर्षीय किशोरी को सीडब्ल्यूसी में पेश किया। पूछताछ में पता चला कि किशोरी को आरोपित युवक बहला-फुसलाकर भगा ले गया था। मां की तहरीर पर मुकामी पुलिस ने 13 जुलाई, 2021 को मुकदमा दर्ज किया था। बरामदगी के बाद किशोरी को यहां पर पेश किया गया। किशोरी को उनके माता के हवाले कर दिया गया। धनघटा पुलिस ने 16 वर्षीय किशोरी को समिति के समक्ष पेश किया गया। पूछताछ में पता चला कि एक युवक किशोरी को बहला-फुसलाकर भगा ले गया था। पीडि़त पिता की तहरीर पर पुलिस ने 13 जुलाई 2021 को मुकदमा दर्ज किया था। बरामदगी के बाद किशोरी को यहां पर लाया गया। किशोरी को उसकी माता के हवाले कर दिया।

समिति के समक्ष किशोरी को पेश किया धर्मसिंहवा पुलिस ने

धर्मसिंहवा पुलिस ने 16 वर्षीय किशोरी को समिति के समक्ष पेश किया। पूछताछ में पता चला कि किशोरी को एक युवक बहला-फुसलाकर भगा ले गया था। पीडि़त मां की तहरीर पर मुकामी पुलिस ने 26 फरवरी 2021 को मुकदमा दर्ज किया था। बरामदगी के बाद किशोरी को सीडब्ल्यूसी में पेश किया गया। काउंसिलिंग के बाद किशोरी को उसके मां के हवाले कर दिया गया।

Edited By: Rahul Srivastava