गोरखपुर, जेएनएन। कुशीनगर जिले के नारायणी नदी के भैंसहा घाट पर पीपा पुल बनने से आवागमन में सहूलियत मिलेगी तो दूरी भी 33 किमी घट जाएगी। नदी के दोनों तरफ बसे गांवों के लोगों के लिए बहुप्रतीक्षित पीपा पुल निर्माण की सामग्री रविवार को घाट पर पहुंची तो रेतावासी झूम उठे। विधायक जटाशंकर त्रिपाठी पुल निर्माण के लिए लगातार प्रयास करते रहे हैं।

शासन के विशेष सचिव ने भैंसहा घाट पीपा पुल के लिए 106.27 लाख की प्रथम किस्त रिलीज किया है। यहां पुल बनने से रेता क्षेत्र के शिवपुर, मरिचहवा, बसंतपुर, बकुलादह, शाहपुर, बालगो¨वद छपरा व नारायनपुर समेत आधा दर्जन गांवों में करीब 15 हजार से अधिक लोगों को तहसील मुख्यालय आने के लिए बिहार के रास्ते 43 किमी की दूरी तय करनी पड़ती है। अब दूरी महज 10 किमी हो जाएगी। नदी इस पार के गांव हनुमानगंज, लक्ष्मीपुर, मदनपुर, गैनही, भगवानपुर, नौतार आदि के लोग जान जोखिम में डालकर नाव से उस पार खेती के लिए जाते-आते हैं। ग्रामीणों की मांग पर विधायक ने भैंसहा से बाल गो¨वद छपरा तक पीपा पुल बनवाने के लिए शासन को पत्र भेजा था।

इलाहाबाद के पीपा पुल विशेषज्ञ शिवमूरतधर दूबे व सुनील शुक्ला की टीम ने सर्वे किया था। शासन ने बड़ी गंडक के भैंसहा व छोटी गंडक के क्रांति चौराहा घाट पर पीपा पुल के लिए दो करोड़ 29 लाख 42 हजार रुपये स्वीकृत किया है। विधायक प्रतिनिधि शत्रुजीत शाही, भाजपा मंडल अध्यक्ष चंद्रप्रकाश तिवारी, राजेश्वर ¨सह, राजू यादव आदि ने लोगों को मिठाई खिला प्रसन्नता जताई, निर्माण कार्य का जायजा लिया। विधायक ने कहा कि पुल बनने से रेता क्षेत्र के लोगों की दुश्वारियां कम हो जाएंगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस