गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर के बांसगांव ब्लाक के ग्राम पंचायत ढढौना में प्रधानी के लिए इस साल पहली बार वोट डाला जाएगा। इससे पहले सर्वसम्मति से यहां ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) एवं ग्राम पंचायत सदस्य चुन लिए जाते थे। सीट अनारक्षित रहने पर एक ही परिवार का दबदबा रहा है। सीट आरक्षित हुई तो इसी परिवार का समर्थित प्रत्याशी ही निर्विरोध चुना जाता था। 

अब तक ऐसे होता था चुनाव

गांव के लोग एक जगह बैठकर निर्णय लेते थे कि किसे किस पद पर प्रत्याशी के रूप में पर्चा दाखिल करना है। पर, इस बार के चुनाव में यहां प्रधान, बीडीसी सदस्य एवं ग्राम पंचायत सदस्य चुनने के लिए मतदान का सहारा लिया जाएगा। गांव में जिस परिवार का दबदबा रहता था, उसके मुखिया का निधन हो जाने के कारण इस बार सर्वसम्मति नहीं बन पायी। 

पांच दावेदार हैं मैदान में

इस चुनाव में प्रधान पद के लिए पांच दावेदार हैं। इस बार गांव में सीट आरक्षित है। निवर्तमान महिला प्रधान इस बार भी मैदान में हैं। क्षेत्र के लोगों की नजरें ब्लाक के इस गांव के परिणाम पर टिकी हैं। सभी प्रत्याशियों ने अपना जोर लगा दिया है, अब मतदाताओं के हाथ में फैसला है। लोग यह जानने को उत्सुक हैं कि मतदान से चुना जाने वाला पहला प्रधान कौन होगा। 

1429 मतदाता डालेंगे वोट

इस ग्राम पंचायत में 1429 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। यहां करीब अनुसूचित जाति एवं पिछड़ी जाति के करीब 40-40 फीसद मतदाता हैं। 20 फीसद मतदाता अनारक्षित वर्ग के हैं।  

दूसरी ग्राम पंचायत की सूची में दर्ज है कई मतदाताओं का नाम

खजनी ब्लाक के ग्राम सष्भा कटघर में प्रधान पद का चुनाव लड़ रहे बालेंद्र ङ्क्षसह ने चुनाव आयोग, मंडलायुक्त एवं खजनी तहसीलदार को ज्ञापन सौंपकर शिकायत की है कि ग्राम सभा छताई व धुवहां के कई मतदाताओं का नाम उनकी ग्राम सभा कटघर की मतदाता सूची में शामिल हो गया है। जिससे उन गांवों के मतदाता दोनों स्थान पर मतदान कर सकते हैं। उन्होंने दूसरे गांव के मतदाताओं से उनके गांव में ही मतदान कराने की मांग की है। खजनी के तहसीलदार प्रद्युम्न कुमार पटेल ने बताया कि जो जिस ग्राम सभा का निवासी होगा, वहीं के बूथ पर वोट डालेगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप