गोरखपुर, जेएनएन। गर्मी बढऩे के साथ ही आग लगने की घटनाएं भी शुरू हो गई हैं। ऐसे में अग्निशमन विभाग आग से निपटने की तैयारी में जुट गया है। तहसील स्तर पर स्थित अस्थायी अग्निशमन केंद्र पर गाडिय़ां भेजी जा रही हैं।

10 फायर टेंडर और 67 दमकल कर्मी किए गए तैनात

आग बुझाने के लिए जिले में 10 फायर टेंडर और 67 दमकलकर्मी तैनात हैं, जिसमें मुख्य फायर स्टेशन पर चार, गीडा में दो, बांसगांव, चौरीचौरा, कैंपियरगंज और बड़हलगंज में एक-एक फायर टेंडर कर्मचारी उपकरण के साथ मौजूद हैं। अधिकारियों के अनुसार आग से निपटने के लिए 75 हाईड्रेंट प्वाइंट बनाए गए थे, इनमें से अधिकांश विलुप्त हो गए हैं या खराब हो चुके हैं। गोलघर स्थित एक प्वाइंट काम कर रहा है। दमकल की गाडिय़ां गोलघर स्थित हाईड्रेंट के अलावा शहर की बहुमंजिली इमारतों में स्थित हाईड्रेंट से पानी भरती हैं।

अग्निशमन केंद्र पर मौजूद संसाधन

फायर टेंडर - 10, वाटर बाउजर - 02, फोम टेंडर   - 01, हाईड्रोलिक प्लेटफार्म - 01, मिस्ड हाईप्रेशर - 04, पोर्टेबल पंप - 04 और बुलेट - 02 हैं। गोरखपुर में अग्निशमन केंद्र पर फिलहाल यही संसाधन मौजूद हैं।

विभाग ने पूरी कर ली है तैयारी

इस संबंध में मुख्य अग्निशमन अधिकारी डीके सिंह का कहना है कि आग की घटनाओं से निपटने की तैयारी पूरी कर ली है। मौजूद संसाधनों से चुनौतियों से निपटा जाएगा। हाईड्रेंट प्वाइंटों को चालू किया जा रहा है। पानी की टंकियों पर वाल्व लगाए गए हैं।

सतर्क रहें, ताकि न हो आगजनी

सदर लोकसभा क्षेत्र के सांसद रविकिशन शुक्ला ने बढ़ते तापमान व लू को लेकर विद्युत व अग्निशमन विभाग को सतर्क रहने की हिदायत दी है। उन्होंने कहा है कि जर्जर पोल, ढीले तारों को समय रहते ठीक कर लिया जाए, जिससे आगजनी की घटना न हो। अग्निशमन विभाग सदैव आपात स्थिति को तैयार रहे।

सांसद रवि किशन शुक्ला ने कहा कि लॉकडाउन के चलते किसान खेती-किसानी के कार्य में पूरी तरह नहीं लग पा रहे हैं। इस दौरान विद्युत तार से निकली चिंगारी के चलते आगजनी के कई मामले सामने आ चुके हैं। ऐसे में दोनों विभाग विशेष सतर्कता बरतें।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस