जागरण संवाददाता, गोरखपुर : ई- नेम योजना के तहत मंडी समिति, महेवा में गुरुवार को किसान व व्यापारियों की प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की गई। उपनिदेशक मंडी, केके सिंह व मंडी समिति के सचिव सेवाराम वर्मा के साथ ही प्रशिक्षक राजकुमार यादव ने किसान और व्यापारियों को इंटर मंडी ट्रेडिंग की जानकारी दी। साथ ही उनके सवालों का जवाब भी दिया।

फल व्यापारी विजय सोनकर ने मंडी में किसानों के स्टोर की व्यवस्था पर सवाल किया तो मंडी सचिव ने कहा कि इसके लिए प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है, उम्मीद है शीघ्र ही यहा 10000 कुंतल क्षमता का कोल्ड स्टोर रूम बन जाएगा। उन्होंने किसानो- व्यापारियों से अपील की कि ज्यादा से ज्यादा ई- ट्रेडिंग के लिए प्रयास करें। साथ ही इसके फायदे भी बताए। कहा शासन की एक योजना है जिसके तहत एक व्यापारी मात्र 10000 रुपये में पूरे प्रदेश में व्यापार करने का लाइसेंस बनवा सकता है और किसी भी मंडी में वह व्यापार कर सकता है। सिर्फ उस मंडी के सचिव को जाकर सूचना देनी होगी कि मैं इस मंडी में फला जगह व्यापार करूंगा, समिति से इसके लिए अनुमति लेने की जरूरत नहीं रहेगी। इस लाइसेंस के तहत व्यापारी प्रदेश के सभी जिलों में अपना स्टोर रख सकता है। इस अवसर पर ई- नेम के तहत उत्कृष्ट कार्य करने वाले किसान ओम प्रकाश, राघवेंद्र कुमार दुबे व रामजतन को टी-शर्ट तथा व्यापारी दिलीप कुमार, बरकतुल्लाह व जुगुल किशोर को शॉल प्रदान कर सम्मानित किया गया, साथ ही उन्हें प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किया गया। इस अवसर पर मदन अग्रहरि, दिलीप कुमार सोनकर, कैलाश, नागेंद्र सिंह, फिरोज अहमद राईन, गजानन, भूपेंद्र कुमार सिंह, राजकुमार, अंकुश श्रीवास्तव, राम अजोर, दयानंद गुप्ता, राम बिहारी मिश्र, राम भवन, ज्ञांती देवी, धीरज रावत, धर्मेद्र प्रसाद, श्रीचंद, जुगल किशोर कुशवाहा सहित बड़ी संख्या में किसान और व्यापारी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran