गोरखपुर, जेएनएन। देवरिया जनपद के रामपुर कारखाना पुलिस ने जाली नोट के कारोबार का भंडाफोड़ किया है। गुरुवार की सुबह पुलिस ने सरगना समेत तीन लोगों को रामपुर कारखाना थाना क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से 100 व 50 की 51 हजार रुपये का जाली नोट बरामद किया गया है। जबकि इस रैकेट में शामिल सरगना के पिता व भाई की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है।

ऐसे हुई जानकारी

पत्रकारों से वार्ता करते हुए एएसपी शिष्यपाल ने बताया कि थानाध्यक्ष रामपुर कारखाना राजेश सिंह को मुखबिर ने सूचना दिया कि बेलवनिया बाजार में कुछ युवक जाली नोट देकर सामान ले रहे हैं। सूचना मिलने के बाद थानाध्यक्ष अपनी टीम के साथ पहुंचे। पुलिस को देखते ही बाइक सवार तीनों युवक भागने लगे। पुलिस ने उन्हें दौड़ाकर पकड़ लिया। तलाशी के दौरान उनके पास से 1950 रुपये का जाली नोट बरामद किया गया। जबकि बाइक की डिग्गी में छपी हुई बिना कटिंग की 100-100 रुपये की 49990 रुपये बरामद किए गए। सरगना धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि उसके इस कार्य में उसके पिता राजाराम व भाई शशिकपूर भी शामिल हैं। वह दोनों फरार हो गए हैं।

इनकी हुई गिरफ्तारी

धर्मेंद्र कुमार पुत्र राजाराम निवासी महराजगंज थाना कोतवाली रुद्रपुर, देवरिया। संदीप कुमार पुत्र रामानंद निवासी जंगल सरैया थाना कोतवाली रुद्रपुर देवरिया। सन्नी कुमार पुत्र गुलाब प्रसाद निवासी गोरयाघाट थाना रामपुर कारखाना देवरिया।

गिरफ्तार करने वाली टीम में यह रहे हैं शामिल

इस अवैध कारोबार का भंडाफोड़ करने वाली टीम में थानाध्यक्ष राजेश सिंह, उप निरीक्षक रवींद्रनाथ यादव, हेड कांस्टेबल राधेश्याम गुप्त, कांस्टेबल सदरुद्दीन अंसारी, प्रतीक यादव, दीपक यादव, राकेश चौहान शामिल रहे हैं।

महराजगंज में ही होती थी जाली नोट की छपाई

सरगना धर्मेंद्र जनसेवा केंद्र चलाता है। उसने अपने ही लैपटाप से जाली नोट की छपाई की है। लगभग 15 दिनों से छपाई कर रहा था। उसका दावा है कि अभी वह केवल 650 रुपये ही जाली नोट से असली नोट कर पाया था, इस बीच पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस