गोरखपुर, दुर्गेश त्रिपाठी। अगर आपको लगता है हेलमेट या सीट बेल्ट लगाए बिना आप पूरा शहर घूम आए और यातायात पुलिस को पता नहीं चला तो आप भूल कर रहे हैं। जब आप अपना मोबाइल देखेंगे तो चालान की सूचना आपके मैसेज इनबाक्स में नजर आ जाएगी। यह संभव होगा 21 चौराहों पर लगने वाले उन कैमरों से जो यातायात नियमों को तोड़ते ही आपके वाहन की फोटो खींचकर इसकी सूचना कंट्रोल रूम भेज देंगे। चालान काटकर मोबाइल नंबर पर संदेश भेजने का काम कंट्रोल रूम करेगा। लालबत्ती तोड़कर आगे निकलने पर आनलाइन चालान की व्यवस्था पहले से ही लागू है। इंटेलिजेंस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (आइटीएमएस) के तहत शहर के नौ चौराहों पर कैमरे और उपकरण लगाने का काम तेजी से चल रहा है।

ऐसे कटेगा चालान

ट्रैफिक सिग्नल पर कैमरे इस तरह लगाए गए हैं कि वाहन का नंबर प्लेट और चालक की फोटो आ जाए। जैसे ही कोई चालक लाल बत्ती के बाद भी जेब्रा क्रासिंग को पार करेगा, कैमरा नंबर प्लेट की फोटो नेटवर्क के माध्यम से कंट्रोल रूम को भेज देगा। यदि दोपहिया वाहन के चालक ने हेलमेट नहीं लगाया है या चार पहिया वाहन के चालक ने सीट बेल्ट नहीं लगाया है तो इसकी भी फोटो वाहन के नंबर प्लेट के साथ कंट्रोल रूम में चली जाएगी। कंट्रोल रूम में बैठे कर्मचारी नंबर के आधार पर संभागीय परिवहन विभाग की ओर से मिले सभी वाहनों के नंबर में से संबंधित नंबर का मिलान करेंगे। वाहन चालक का मोबाइल नंबर दर्ज है तो चालान का संदेश तत्काल भेज दिया जाएगा। नंबर नहीं दर्ज है तो पते पर पंजीकृत डाक से सूचित किया जाएगा।

नगर निगम में बन रहा है कंट्रोल रूम

आइटीएमएस के लिए नगर निगम के निर्माणाधीन सदन भवन में कंट्रोल रूम बनाया जा रहा हैं। यहीं से शहर के 21 चौराहों पर नजर रखी जाएगी। इसके अलावा शहर के नौ चौराहों पर पहले लगाए कैमरे भी चलते रहेंगे। इन कैमरों से पुलिसकर्मी चौराहों पर यातायात व्यवस्था को नियंत्रित करते हैं।

इन चौराहों पर लग रहे अत्याधुनिक ट्रैफिक सिग्नल

नौसढ़, ट्रांसपोर्टनगर, रुस्तमपुर, देवरिया बाइपास, पैडलेगंज, मोहद्दीपुर, यूनिवर्सिटी और गोलघर।

नौ चौराहों पर कैमरे और टै्रफिक लाइट का काम तेजी से पूरा किया जा रहा है। जो भी यातायात नियमों का उल्लंघन करेगा, उसका चालान हो जाएगा। - अविनाश सिंह, नगर आयुक्त।

Edited By: Pradeep Srivastava