गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर नगर निगम में अब हर महीने की आखिरी तिथि को साथी हाथ बढ़ाना के तहत बैठक का आयोजन किया जाएगा। बैठक में कर्मचारियों से जुड़ी समस्याओं पर चर्चा कर इसका समाधान कराया जाएगा। शनिवार को नगर निगम के गेस्ट हाउस में हुई पहली बैठक में कर विभाग में अ'छा काम न करने वाले कर्मचारियों को हटाकर दूसरी जगह भेजने का निर्णय लिया गया।

नगर निगम में शुरू हुई साथी हाथ बढ़ाना बैठक, सुनी जाएंगी कर्मचारियों की समस्या

बैठक में नगर निगम के पथ प्रकाश विभाग में रखी तकरीबन 35 हजार सोडियम लाइट फिटिंग नीलाम करने, कर्मचारियों के लिए बनाए गए विश्रामालय को खाली कराने, निष्प्रयोज्य वाहनों की नीलामी, वर्ष 2016 के बाद कर्मचारियों के लंबित समयबद्ध वेतनमान के प्रकरणों पर कार्रवाई, सभी कर्मचारियों के नामिनी फार्म भराने, लंबित चिकित्सा प्रतिफल के भुगतान के लिए बजट की व्यवस्था करने पर चर्चा हुई। साथ ही कर्मचारियों ने एनपीएस की कटौती न करने की मांग की। नगर आयुक्त ने कहा कि शासनादेश के तहत इस बिंदु पर निर्णय लिया जाएगा।

कर्मचारियों ने वेतन, चिकित्सा प्रतिपूर्ति, पदोन्नति आदि समस्याओं को दूर करने की मांग की

बैठक में आउटसोॄसग कर्मचारियों को श्रम विभाग के निर्धारित दर के अनुसार भुगतान करने, जलकल कार्यालय के मरम्मत, जलकल विभाग के सेवानिवृत्त अनुभवी व स्वस्थ पंप चालकों को सीएलसी के माध्यम से रखे जाने का मामला उठा। नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने बताया कि नगर निगम के लिपिकों के कार्यों का मूल्यांकन कराया जा रहा है। क्षमता के आधार पर महत्वपूर्ण पटलों पर तैनाती की जाएगी। बैठक में कर्मचारियों के आवास की मरम्मत, लिपिक संवर्ग की पदोन्नति, बाहरी व्यक्तियों को आवंटित आवास खाली कराने की मांग की गई।

बैठक में उप नगर आयुक्त संजय शुक्ल, मुख्य अभियंता सुरेश चंद, नगर स्वास्थ अधिकारी डा. मुकेश रस्तोगी, जलकल महाप्रबंधक एसपी श्रीवास्तव, लेखाधिकारी अमरेश बहादुर पाल, उप नगर स्वास्थ्य अधिकारी अखिलेश श्रीवास्तव, अभियंता सौरभ सिंह, स्टेनो बृजेश तिवारी, रामप्रकाश सिंह, शेषनाथ पांडेय, फरहान अहमद, दीपक श्रीवास्तव, देवेंद्र मिश्र, पवन मिश्र, बेचन गुप्ता, देवानंद राम त्रिपाठी, घनश्याम गुप्ता, पीआरओ अजय श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

Edited By: Pradeep Srivastava