गोरखपुर, जेएनएन। 132 केवी फर्टिलाइजर ट्रांसमिशन केंद्र में खराब 63 एमवीए का ट्रांसफार्मर सात जुलाई तक बदलने की उम्मीद है। नया ट्रांसफार्मर आने तक ग्रामीण क्षेत्र के तीन लाख से ज्यादा लोगों को निर्बाध आपूर्ति मिलने की कोई उम्मीद नहीं है। हालांकि ट्रांसमिशन के अफसरों ने दूसरे ट्रांसफार्मर से आपूर्ति देकर शहर के दुर्गाबाड़ी और सूरजकुंड उपकेंद्रों को पर्याप्त आपूर्ति शुरू कर दी है।

फर्टिलाइजर ट्रांसमिशन केंद्र के 63 एमवीए के ट्रांसफार्मर में पिछले हफ्ते तकनीकी खराबी आने से दुर्गाबाड़ी, सूरजकुंड समेत ग्रामीण क्षेत्र के कई इलाकों की आपूर्ति प्रभावित हुई थी। इंजीनियरों ने तकनीकी खराबी दूर कर 28 जून को ट्रांसफार्मर ठीक किया तो दूसरा 63 एमवीए का ट्रांसफार्मर खराब हो गया। इसके बाद दुर्गाबाड़ी और सूरजकुंड की आपूर्ति फिर ठप हो गई। आनन-फानन दूसरे 63 एमवीए के ट्रांसफार्मर से शहर की आपूर्ति सामान्य करने की कोशिश की गई। हालांकि ओवरलोड होने के कारण कई इलाकों में आपूर्ति पर असर पड़ा। ट्रांसमिशन के अधिशासी अभियंता रामसुरेश ने बताया कि 63 एमवीए का नया ट्रांसफार्मर राजस्थान से मंगाया जा रहा है। ट्रांसफार्मर रास्ते में है।

डिस्ट्रीब्यूशन और ट्रांसमिशन के अफसर आमने-सामने

शनिवार रात बरहुआ ट्रांसमिशन केंद्र के लाइन आइसोलेटर का इंसुलेटर फेल होने के बाद शहर के चार उपकेंद्रों की आपूर्ति ठप होने को लेकर डिस्ट्रीब्यूशन और ट्रांसमिशन के अफसर आमने-सामने हैं। ट्रांसमिशन के अफसरों का कहना है कि मोहद्दीपुर ओल्ड ट्रांसमिशन की आपूर्ति सिर्फ 51 मिनट प्रभावित रही। इसके बाद दूसरे ट्रांसमिशन केंद्र से आपूर्ति शुरू कर दी गई थी। डिस्ट्रीब्यूशन के अफसरों ने ट्रांसमिशन का फाल्ट बताकर चार घंटे से ज्यादा कटौती की जानकारी दी। ट्रांसमिशन के अधिशासी अभियंता राम सुरेश ने कहा कि बरहुआ में आई दिक्कत के बाद वैकल्पिक व्यवस्था के तहत मोहद्दीपुर ओल्ड ट्रांसमिशन को बिजली दी गई। रात 10:40 बजे बरहुआ से आपूर्ति सामान्य कर दी गई।

आगरा पहुंचा ट्रांसफार्मर

ट्रांसमिशन के अफसर फर्टिलाइजर के लिए दूसरा 63 एमवीए का ट्रांसफार्मर राजस्थान से मंगा रहे हैं। रविवार शाम तक यह ट्रांसफार्मर आगरा तक पहुंच चुका था। अधिशासी अभियंता रामसुरेश ने कहा कि ट्रांसफार्मर जल्द आए इसके लिए ट्रक में दो चालक हैं। अमूमन इतना भार लेकर ट्रक चालक 60-70 किलोमीटर प्रतिदिन ही चलते हैं, लेकिन इस ट्रक को रोजाना 100-125 किलोमीटर चलाया जा रहा है।

भटहट इलाके में त्राहि-त्राहि

फर्टिलाइजर ट्रांसमिशन में 63 एमवीए के ट्रांसफार्मर में खराबी का असर भटहट क्षेत्र पर पड़ा है। इलाके में बिजली के लिए त्राहि-त्राहि मची हुई है।

भटहट संवाददाता के अनुसार वैकल्पिक व्यवस्था के तहत 40 एमवीए के ट्रांसफार्मर से आपूर्ति शुरू की गई है, लेकिन ओवरलोड के कारण भीषण कटौती हो रही है। भटहट, मेडिकल कॉलेज ग्रामीण, खुटहन उपकेंद्र के फीडरों को चार से पांच घंटे बंद कर रोस्टर के अनुसार आपूर्ति दी जा रही है। पीक आवर में सभी फीडरों को बंद करना पड़ रहा है।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस