गोरखपुर, जागरण संवाददाता : कुशीनगर जिले के तमकुहीराज तहसील क्षेत्र स्थित एपी बांध के किमी 12.860 बाघाचौर के नोनिया पट्टी में दबाव बढ़ने से स्पर का आठ मीटर स्लोप कट गया है। इससे बांध पर दबाव बढ़ गया। नदी के इस विनाशकारी रूप को देख ग्रामीणों में दहशत है। विभाग बोरे में मिट्टी डालकर व गैवियान के माध्यम से बचाव कार्य में जुटा है। नदी के डिस्चार्ज व जलस्तर में कमी के बावजूद बांध पर दबाव बदस्तूर कायम है।

खतरे के निशान से नीचे बह रही नदी

वाल्मीकि नगर बैराज से 1.69 लाख क्यूसेक पानी डिस्चार्ज से पिपराघाट में लगे गेज पर जलस्तर 75.10 सेंटीमीटर पर दर्ज किया गया। नदी खतरा के निशान 95 सेंटीमीटर नीचे बह रही है। बांध के किमी 17 अहिरौलीदान के कचहरी टोला, किमी 12.500 से किमी 13.500 बाघाचौर नोनिया पट्टी के सामने, नरवाजोत विस्तार बांध, अमवाखास बांध के किमी 7.500 से किमी 8.600 व लक्ष्मीपुर में स्थिति संवेदनशील बनी हुई है। कचहरी टोला, नरवाजोत-पिपराघाट बांध के किमी 950 से किमी 1.1450 पर स्लोप पर बचाव कार्य चल रहा है। बाढ़ खंड के एसडीओ एसके प्रियदर्शी ने बताया कि बचाव कार्य तेज कर दिया गया है।

बांध को नहीं है कोई खतरा : एक्सईएन

बाढ़ खंड के अधिशासी अभियंता एमके सिंह ने बताया कि बांध पूरी तरह सुरक्षित है। बचाव कार्य जोरों पर चल रहा है। खतरे जैसी अभी कहीं कोई बात नहीं है। विभाग की हर संवेदनशील प्वाइंट पर नजर है।

रेनकट से सड़क में होल, आवागमन में परेशानी

सेवरही विकास खंड के सिसवा -बाघाचौर मार्ग पर पुलिया के पास रेन कट से पिच सड़क पर होल बन जाने से आवाजाही में परेशानी हो रही है। बाघाचौर, बांकखास, फगूछापार, बीरवत कोहन्वलिया, गुलाब नगर आदि गांव के लोग इस मार्ग से तहसील व ब्लाक मुख्यालय जाते व आते हैं। प्रधान प्रतिनिधि हरकेश सिंह, संतोष प्रसाद संजय यादव, रमाकबल सिंह, प्रभुनथ सिंह, पूर्व प्रधान शंभू यादव, रमाशंकर सिंह, अमरनाथ सिंह आदि ने मरम्मत कराने की मांग की है।

Edited By: Rahul Srivastava