गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर में मनबढ़ों के हौसले बुलंद हैं। मनबढ़ों ने वाणिज्यकर के डिप्टी कमिश्नर को कोर्ट में धमकाया तो एक प्रापर्टी डीलर के कार्यालय में घुसे मनबढ़ों ने पूर्व विधायक के बेटे की हत्या करने की कोशिश की। गनीमत रही कि गोली नहीं चली। पुलिस ने दो नामजद समेत तीन के खिलाफ हत्या के प्रयास और धमकी देने का मुकदमा दर्ज कर एक आरोपित के भाई को हिरासत में लिया है।

आजमगढ़ जिले के पूर्व विधायक स्वर्गीय नर्वदेश्वर लाल श्रीवास्तव का परिवार महादेव झारखंडी में रहता है। उनके बेटे सतीश श्रीवास्तव ठेकेदारी करते हैं। रुस्तमपुर के रहने वाले प्रापर्टी डीलर राजन वर्मा ने सतीश से रुपये उधार लिए हैं। इस बीच सतीश रुपये मांगने सेंट एंड्रयूज इंटर कॉलेज के पास स्थित राजन के कार्यालय गए थे। दोनों बातचीत कर ही रहे थे कि बशारतपुर का रहने वाला वरुण सिंह अपने तीन साथियों के साथ असलहा लेकर पहुंचा। आरोप है कि कार्यालय में पहुंचते ही उसने सतीश को असलहा सटा गोली चलाने का प्रयास किया।

कार्यालय में मौजूद प्रापर्टी डीलर और कर्मचारियों ने बीच-बचाव किया। घटना के बाद वरुण और उसके साथी सतीश को जान से मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए। सीओ कोतवाली बीपी सिंह ने बताया कि पूर्व विधायक के बेटे ने वरुण सिंह, खोराबार के रुस्तमपुर निवासी प्रिंस सिंह और उनके एक अज्ञात साथी के खिलाफ हत्या के प्रयास और धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया है। वरुण के भाई को पुलिस ने हिरासत में लिया है। सतीश ने आरोपितों के साथ कोई विवाद होने से इन्कार किया है। पुलिस इसकी जांच कर रही है।

आरोपितों पर दर्ज है कई मुकदमें

प्रापर्टी डीलर के कार्यालय में लगे सीसीटीवी कैमरे में मनबढ़ों की करतूत रिकार्ड हो गई है। सीओ कोतवाली ने बताया कि असलहा तानने वाले वरुण सिंह और प्रिंस पर कई मुकदमें दर्ज है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021