गोरखपुर, जेएनएन। सिकरीगंज थाना क्षेत्र के दाढ़ीजोत निवासिनी किरन देवी की मौत हो गई। वह सात माह के गर्भ से थी। मृतका के पति कौशल ने सिकरीगंज थाना क्षेत्र के ग्राम मलाव स्थित एक निजी नर्सिंग होम के चिकित्सक पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है। उन्होंने सिकरीगंज थाने में चिकित्सक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने के लिए प्रार्थना पत्र दिया है। पुलिस शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज मामले की जांच में जुटी है।

आपरेशन के नाम पर जमा कराया 25 हजार

बताते हैं कि शनिवार शाम छह बजे किरन को प्रसव पीड़ा हुई। कौशल उन्हें इलाज के लिए मलाव स्थित निजी नर्सिंग होम लेकर गए। वहां नर्सिंग होम के चिकित्सक ने जांच के बाद बताया कि बच्‍चा किरन के पेट में मर चुका है। ऐसे में आपरेशन करना पड़ेगा। उन्होंने कौशल से 25 हजार रुपये जमा कराकर उसका आपरेशन कर दिया।

हालत गंभीर होने पर गोरखपुर निजी अस्‍पताल में पहुंचे चिकित्‍सक

बुधवार सुबह 9 बजे महिला की स्थिति गंभीर देख चिकित्सक अचानक उसे अपनी कार से लेकर गोरखपुर के एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती करने के लिए ले गए। पत्नी का पीछा करते हुए कौशल भी वहां पहुंचे। गोरखपुर के निजी नर्सिंग होम के चिकित्सक ने बताया कि महिला की स्थिति गंभीर है। तत्काल उन्हें लेकर मेडिकल कालेज जाएं।

मेडिकल कालेज पहुंचे ही मौत

उन्‍होंने बताया कि मेडिकल कालेज में चिकित्सकों ने किरन को मृत घोषित कर दिया। कौशल ने सिकरीगंज थाने में प्रार्थना पत्र देकर चिकित्सक पर हत्या का आरोप लगाया है और उसके विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। चिकित्सक अपने नर्सिंग होम में ताला लगाकर फरार हो गया है। उसका मोबाइल भी स्विच आफ है। थानाध्यक्ष राजेन्द्र मिश्रा का कहना है कि तहरीर मिल गई है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र उरुवा के प्रभारी चिकित्‍साधिकारी डा.जेपी त्रिपाठी का कहना है कि नर्सिंग होम फर्जी है। नर्सिंग होम के विरुद्ध पहले भी कार्रवाई की जा चुकी है। इस मामले को गंभीरता से लिया जाएगा। चिकित्सक के विरुद्ध कार्रवाई भी होगी।

Edited By: Satish Chand Shukla