गोरखपुर, जेएनएन। नाबालिग दुष्कर्म पीडि़ता से जन्मे नवजात को पटक कर मौत के घाट उतारने के मामले के आरोपित विभाष्म सिंह का जेल के डाक्टरों ने  डीएनए नमूना ले लिया है। इसी दिन दुष्कर्म पीडि़ता का भी जिला महिला अस्पताल में डीएनए नमूना लिया गया।

पीडि़ता की उम्र के लिए भी परीक्षण

पीडि़ता की उम्र निर्धारित करने के लिए कई परीक्षण कराए गए हैं। दुष्कर्म पीडि़ता और दुष्कर्म का आरोपित, दोनों नवजात की हत्या के मामले में अभियुक्त हैं। बच्‍चा उन्हीं का था, यह तय करने के लिए कोर्ट के आदेश पर उनका डीएनए नमूना सुरक्षित किया गया है। दोनों का डीएनए नमूना जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा जाएगा।

जन्‍म देने के लिए भी सेंपल सुरक्षित

नवजात की हत्या के मामले की विवेचना कर रहे कैंपियरगंज थानेदार, महिला सिपाही के साथ दुष्कर्म पीडि़ता को जेल से लेकर खुद महिला जिला अस्पताल में पहुंचे थे। सौ शैया वार्ड में महिला डाक्टर ने उसका डीएनए नमूना लिया। बच्‍चे को दुष्कर्म पीडि़ता के ही जन्म देने की पुष्टि करने के लिए स्पीयर सेंपल भी सुरक्षित किया गया है।

दुष्‍कर्मी ने कोर्ट में किया था समर्पण

दुष्कर्म के आरोपित विभाष्म का डीएनए सेंपल जेल के डाक्टरों ने लिया है। मंगलवार को उसने कोर्ट में समर्पण कर दिया था। डीएनए नमूना लेने के लिए पुलिस ने कोर्ट से पहले ही अनुमति ले ली थी। गुरुवार को पीडि़ता का कोर्ट में बयान कराने की तैयारी है।

उम्र निर्धारित करने के लिए कराया एक्सरे

दुष्कर्म पीडि़ता की उम्र 14 वर्ष के आसपास बताई जा रही है। इसका निर्धारण करने के लिए जिला अस्पताल में उसके रिस्ट ज्वाइंट, एल्बो ज्वाइंट और क्लैविकल ज्वाइंट का एक्सरे कराया गया है। इसकी रिपोर्ट से उसकी वास्तविक उम्र का पता चल जाएगा। 

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस