सिद्धार्थनगर : यूरिया की कालाबाजारी पर जिलाधिकारी दीपक मीणा ने सख्त कदम उठाया है। संबंधित विभाग को चेतावनी दी है कि किसी भी सूरत में खाद की कालाबाजारी न होने पाए। डीएम ने इसके लिए तहसीलवार पांच टीमों का गठन किया है। टीम को खाद के थोक व फुटकर दुकानों की जांच करनी है और किसानों को उचित दर पर खाद उपलब्ध करानी है। टीम में गैर विभागीय अधिकारी भी रखे गए हैं।

इधर लगातार शिकायतें मिल रही हैं कि विभाग की मिलीभगत से नेपाल बार्डर पर खाद की तस्करी हो रही है। इसे लेकर डीएम ने विभाग के जिम्मेदारों पर नाराजगी व्यक्त की है। किसानों को उचित दर पर खाद नहीं मिल रही और तस्कर आसानी से खाद सीमा पार करा दे रहे हैं। किसानों को यूरिया की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए जिलाधिकारी ने गठित टीम को जनपद के समस्त थोक व फुटकर सहकारी व निजी क्षेत्र के बिक्री केंद्रों व भंडार गृह पर औचक छापेमारी कर स्टाक बोर्ड की स्थिति, भौतिक स्टाक का मिलान, जोतवही के अनुसार बिक्री होने, निर्धारित मूल्य पर बिक्री होने सहित अन्य बिन्दुओं पर जांच करने का निर्देश दिए हैं। डीएम ने आदेश में नौगढ़ तहसील में जांच के लिए उप कृषि निदेशक व सहायक आयुक्त एवं सहायक निबंधक, सहकारिता की संयुक्त टीम बनाई गई है़। बांसी तहसील के लिए जिला कृषि अधिकारी व अपर जिला सहकारी अधिकारी, डुमरियागंज तहसील के लिए जिला कृषि रक्षा अधिकारी व सहायक विकास अधिकारी सहकारिता, शोहरतगढ़ तहसील के लिए भूमि संरक्षण अधिकारी व सहायक विकास अधिकारी सहकारिता और इटवा तहसील के उपसंभागीय कृषि प्रसार अधिकारी व सहायक विकास अधिकारी की संयुक्त टीम बनाई गई है।

उर्वरक दुकानों पर हुई छापेमारी, सात नमूने संग्रहित

किसानों के लिए निर्धारित व आसानी से यूरिया उपलब्ध कराने के लिए जिलाधिकारी के गठित टीमों ने बुधवार को 45 स्थानों पर छापेमारी किया। इस दौरान सात नमूने भी संग्रहित किए गए। टीम ने जोगिया में मां वैष्णव खाद भंडार से यूरिया व डीएपी के दो नमूने, सुलेमान एजेंसी बांसी से जिक का एक , रामप्रसाद एजेंसी सोनखर से यूरिया का एक व श्याम आटो सर्विस इटवा से एक नमूना लेकर जांच के लिए भेजा गया। इसके अलावा अनियमितता मिलने पर मां वैष्णव खाद भंडार जोगिया, कृषि उत्पादन समिति करही, चंद्रश्याम खाद भंडार पूरैना, विकास ट्रेडर्स व सिंह खाद मझौआ व महालक्ष्मी खाद भंडार गोल्हौरा के प्रबंधकों को नोटिस जारी किया गया। जिला कृषि अधिकारी सीपी सिंह ने बताया कि जनपद के सभी समितियों के लिए 60 हजार बोरी इफ्को यूरिया व निजी क्षेत्र से 24 हजार बोरी शक्तिमान यूरिया भेजी जा रही है। बार्डर पर तस्करी न हो, इसपर भी विभाग की नजर है।

Edited By: Jagran