गोरखपुर, जागरण संवाददाता : देवरिया जिले के करहकोल के रहने वाले दंपती की सीतापुर में हत्‍या कर दी गई। सूचना गांव पहुंची तो परिवार के साथ ही पूरे गांव में मातम छा गया। जिसने भी हत्या की बात सुनी, उसकी आंखें भर आईं।

बाराबंकी कमाने गए थे सतीश व मंजू

गांव के सतीश व उनकी पत्नी मंजू तीन माह पहले अपने साढू के बुलाने पर बच्चों के साथ बाराबंकी कमाने गए थे। वहां मजदूरी करते थे। 24 जुलाई की रात एक वाहन से सामान उतराने के बहाने हत्यारे उन्हें ले गए और सीतापुर में हत्या कर दी। चार दिनों तक शव अज्ञात में पड़ा रहा। शव की शिनाख्त जब हुई तो गांव सूचना आई। गांव में सूचना पहुंचते ही परिवार में मातम छा गया। मां शीला देवी दहाड़ मारकर रोने लगीं और रोते-रोते बेहोश हो जाती। पिता शिवमूरत चौधरी, बेटे व बहू की हत्या से परेशान हैं। शिवमूरत चौधरी के तीन पुत्रों में से सतीश बड़े थे। छोटे बेटा सुशील मुंबई व सुनील बेंगलुरू में रहता है। भाई व भाभी की हत्या की सूचना मिलने के बाद वह दोनों सीतापुर के चल दिए। बड़ी बेटी अनीता अपनी दादी के पास रहती है।

भूमि विवाद में युवक ने वृद्ध पर किया धारदार हथियार से प्रहार

खुखुंदू थाना क्षेत्र के गांगी में भूमि विवाद में परिवार का ही एक युवक वृद्ध पर धारदार हथियार से प्रहार कर दिया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। इलाज के लिए वृद्ध को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया। इस मामले में वृद्ध ने कार्रवाई के लिए पुलिस को तहरीर दी है। हालांकि देर शाम तक इस मामले में मुकदमे की कार्रवाई नहीं हो सकी थी।

त्रिवेणी चौहान का पड़ोसी से चल रहा विवाद

गांगी के रहने वाले त्रिवेणी चौहान का भूमि विवाद उनके पड़ोसी से चल रहा है। आरोप है कि पैमाइश के दौरान त्रिवेणी की कुछ भूमि कम मिली है। जिसके बाद त्रिवेणी पर मुकदमा लड़ने के लिए स्वजन दबाव बना रहे हैं, उनको मारा-पीटा भी गया। त्रिवेणी शौच कर घर लौट रहे थे, तभी परिवार के सदस्य ने ही उनकी पिटाई की और चाकू से प्रहार कर दिया। इस हमले में वह गंभीर रूप से घायल हो गए। थानाध्यक्ष अनिल यादव ने कहा कि तहरीर मिली है। जांच कर जल्द कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Rahul Srivastava