गोरखपुर, जेएनएन। चार दिन पूर्व मुंबई से आए गोरखपुर गोला थाना क्षेत्र के ग्राम खदरा निवासी 57 वर्षीय एक व्यक्ति की सोमवार को जिला अस्पताल में मौत हो गई। वह सर्दी, जुकाम, बुखार से पीडि़त थे। कोरोना संक्रमण की जांच के लिए उनका सैंपल बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। रिपोर्ट अभी नहीं आई है। एसआइसी डॉ. सतीश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि शव को पोस्टमॉर्टम हाउस में रखवा दिया गया है। रिपोर्ट आने के बाद परिजनों को सौंप दिया जाएगा। दो दिन पूर्व उनकी तबीयत अचानक खराब हो गई। गांव पहुंची स्वास्थ्य टीम की सलाह पर रविवार दोपहर में उन्हेंं जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मृत्यु की खबर सुनते ही गांव में दहशत का माहौल बन गया है। थाना प्रभारी हेमेंद्र पांडेय का कहना है कि एहतियात के तौर पर गांव के रास्तों पर बैरियर लगवा दिया गया है।

बुजुर्ग में दिखे कोरोना के लक्षण, भेजा गया मेडिकल कॉलेज

मोहरीपुर स्थित प्राथमिक विद्यालय में बने क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए बुजुर्ग में कोरोना के लक्षण दिखने के बाद अफरा-तफरी मच गई। बुजुर्ग को आनन-फानन मेडिकल कॉलेज पहुंचाए जाने के बाद चिलुआताल पुलिस ने राहत की सांस ली। 15 मई को 60 वर्षीय बुजुर्ग श्रमिक स्पेशल से गुजरात के बड़ौदा से लौटे थे। प्राथमिक विद्यालय में उन्हें क्वारंटाइन कराया गया था। सोमवार शाम उनकी तबीयत बिगडऩे लगी। इसकी जानकारी पर पार्षद ने इस बारे में स्थानीय पुलिस को बताया। बाद में पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को बुलवाकर उन्हें मेडिकल कॉलेज भेजा।

शव लेकर मुंबई से आए तीन लोग क्वारंटाइन

मुंबई से शव लेकर सोमवार को आए महुअलकोर, चौरीचौरा के तीन लोगों को सहजनवां में क्वारंटाइन करा दिया गया। शव का अंतिम संस्कार पुलिस व परिजनों की मौजूदगी में राजघाट पर करा दिया गया। एंबुलेंस के ड्राइवर को जांच के बाद छोड़ दिया गया। सीएमओ डॉ. श्रीकांत तिवारी ने बताया कि मुंबई में एक व्यक्ति की हार्ट अटैक से मृत्यु हो गई थी। उनके शव को लेकर तीन लोग सोमवार को एंबुलेंस से पहुंचे। तीनों की सहजनवां चेकपोस्ट पर स्वास्थ्य जांच करने के बाद डेंटल कॉलेज, गीडा में क्वारंटाइन करा दिया गया है। उनके नमूने पांच दिन बाद जांच के लिए भेजे जाएंगे।

रजिस्ट्री ऑफिस में भीड़ देख डीएम ने जताई नाराजगी

फिजिकल डिस्‍टेसिंग की अनदेखी पर डीएम ने अफसरों पर नाराजगी जताई। उन्होंने सहायक रजिस्ट्रार से कहा कि अगर फिजिकल डिस्‍टेसिंग का पालन नहीं करा पा रहे हैं तो दफ्तर बंद कर दें। इसके साथ ही वहां से निकलते समय उन्होंने अधिवक्ताओं और डीड लेखकों से भी यह कहते हुए घर जाने को कहा कि अब रजिस्ट्री नहीं होगी। हालांकि उनके लौटते ही पूर्व की तरह शाम पांच बजे तक रजिस्ट्री हुई। इस संबंध में एआइजी स्टांप कमलेश शुक्ला का कहना है कि सभी को फिजिकल डिस्‍टेसिंग का पालन कराने का निर्देश दिया गया है।

जब तक लॉकडाउन, तब तक कराएंगे भोजन

गोरखपुर जिला प्रशासन एवं नागरिक सुरक्षा कोर के माध्यम से नगर के विभिन्न स्थानों पर जरूरतमंद लोगों को भोजन कराया गया। महानगर के बशारतपुर में 28 मार्च से प्रतिदिन करीब पांच सौ भोजन पैकेट तैयार किए जा रहे हैं। स्वयंसेवी संस्था के संचालक संतोष कुमार शुक्ला ने कहा है कि जब तक लॉकडाउन रहेगा, भोजन वितरण का यह कार्यक्रम जारी रहेगा।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस