गोरखपुर, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत जिले में 700 जोड़ों की शादी कराने का लक्ष्य रखा गया है। लेकिन अभी तक मात्र 149 जोड़ों ने शादी के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है। शहर से लेकर देहात तक शादी के लिए जोड़े ढूंढने पर भी नहीं मिल रहे हैं। जिसको लेकर अधिकारी परेशान हैं।

प्रत्‍येक जोडे को दिए जाएंगे 51 हजार रुपये

समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत जिले में 700 शादियां कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। योजना का लाभ अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग एवं सामान्य वर्ग के उन गरीब व्यक्तियों को मिलेगा, जिनकी वार्षिक आय दो लाख से कम हो। उनकी ही पुत्रियों की शादी इस योजना के तहत कराई जाएगी। प्रत्येक जोड़े पर 51 हजार रुपये व्यय किया जाएगा। कन्या के खाते में 35 हजार, 10 हजार कन्या की गृहस्थी के सामान, छह हजार रुपये भोजन समेत अन्य पर व्यय किया जाएगा।

लोग नहीं आ रहे आगे

हाल यह है कि लक्ष्य तो निर्धारित कर दिया गया है, लेकिन लोग इस योजना का लाभ लेने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। खंड विकास अधिकारी व एडीओ पंचायत को अधिक से अधिक जोड़े को इस योजना में शामिल कराने की जिम्मेदारी दी गई है।

अभी तक 149 का ही हुआ पंजीकरण

जिला समाज कल्‍याण अधिकारी जैसवार लाल बहादुर ने बताया कि दिसंबर के प्रथम सप्ताह में शादी का आयोजन किया जाएगा। अभी तक 149 लोगों ने अपना पंजीकरण करा लिया है। अन्य जाेड़ों को लाने व पंजीकरण कराने की जिम्मेदारी खंड विकास अधिकारी व सहायक विकास अधिकारी पंचायत को दी गई है।

शांति भंग की आशंका में दो का चालान

खुखुंदू थाना क्षेत्र के बहोरवा गांव में बुधवार को भूमि विवाद को लेकर हुई कहासुनी के बाद दोनों पक्ष आपस में भिंड़ गए। आसपास के लोगों ने दोनों पक्षों को अलग कर मामले को शांत कराया। पुलिस ने शांति भंग में दोनों पक्षों से एक-एक आरोपित आद्या व राजकिशोर का चालान कर दिया। थानाध्यक्ष नवीन कुमार चौधरी ने बताया कि भूमि विवाद को लेकर दो पक्ष आपस में भिड़ गए। इस मामले में दो आरोपितों का शांति भंग की आशंका में चालान किया गया है।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi