गोरखपुर, जागरण संवाददाता। नगर निकाय चुनावों की तैयारी भी शुरू हो चुकी है। वार्डों का परिसीमन जारी होने के बाद अब मतदाता सूची पर काम शुरू होगा। पांच अक्टूबर से नगर निगम एवं नगर पंचायतों में मतदाता सूची के सत्यापन का काम किया जाएगा। सभासद के चुनाव में दावेदारी करने वाले लोग सूची के सत्यापन पर नजर रखने की तैयारी में जुटे हैं। सभी दावेदार मतदाता सूची में अपने हिसाब से संशोधन को लेकर जोर-आजमाइश में लगे हैं।

चुनाव में महत्वपूर्ण है मतदाता सूची

नगर निकाय चुनाव में मतदाता सूची काफी महत्वपूर्ण होती है। चुनाव के दौरान मनमाने तरीके से वार्ड के बाहर के लोगों को मतदाता सूची में शामिल करने, वार्ड के लोगों का नाम कट जाने की शिकायत आम होती है। इस बार नगर निगम की सीमा में 32 नए गांव शामिल हुए हैं और कुछ वार्डों की सीमा में परिवर्तन भी हुआ है। ऐसे में पांच से 20 अक्टूबर तक सभी बूथ लेवल अधिकारी (बीएलओ) घर-घर जाएंगे। जो क्षेत्र नए जुड़े हैं, वहां के निवासियों का नाम मतदाता सूची में शामिल किया जाएगा। घर-घर जाकर लोगों से नए मतदाताओं के बारे में जानकारी ली जाएगी और गलत नाम काटने के लिए भी आवेदन लिए जाएंगे। परिशिष्ट 15 के जरिए मतदाता सूची में नए नाम जोड़वाए जा सकेंगे और परिशिष्ट 16 के जरिए नाम में संशोधन कराया जा सकेगा। परिशिष्ट 17 एवं 18 के जरिए मतदाता सूची से नाम काटे जाएंगे।

सक्रिय हो चुके हैं दावेदार

चुनाव नजदीक आता देख सभी वार्डों में दावेदार सक्रिय हो गए हैं। लगभग सभी क्षेत्राें में कई नए चेहरे भाग्य आजमाने के लिए मैदान में आने को आतुर दिख रहे हैं। पहली बार निर्वाचित होने का सपना देखने वाले लोग मतदाता सूची पर खास नजर रखने की तैयारी में हैं। दावेदारों ने अपने लोगों की सूची भी बना ली है। नए लोगों के नाम जोड़वाने के साथ ही पुरानी मतदाता सूची से ऐसे लोगों को भी चिह्नित किया गया है जो स्थायी रूप से वार्ड में नहीं रहते या जिनका नाम गलत तरीके से मतदाता सूची में शामिल किया गया है। मोहल्ले में आने वाले बीएलओ के समक्ष इस सूची को प्रस्तुत किया जाएगा।

Edited By: Pragati Chand

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट